पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजलियां कौंधती रहीं:देर रात जिलेभर में एक घंटा बरसे बादल, आहोर क्षेत्र में दिन में 20 एमएम बरसात

जालोर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बरसात के साथ तीन घंटे तक बादलों की गर्जना और बिजलियां कौंधती रहीं

मानसून के दौरान मंगलवार को जिले में दिनभर की तपीश व उमस के बाद देर रात करीब पौने एक बजे बारिश दौर शुरू हुआ। इस दौरान बारिश शुरु होने से लेकर बंद होने तक तथा उसके उपरांत भी करीब 3 घंटे तक बादलों की गर्जन व बिजली चमकनी शुरू रही। वहीं बारिश का क्रम जिले के सभी ब्लॉकों में जारी रहा।

गत 24 घंटों में सर्वाधिक बारिश जालोर शहर में 27 एमएम दर्ज की गई, वही आहोर में 23 एमएम बारिश हुई। रातभर हुई बारिश के कारण बुधवार दोपहर तक उमस से राहत प्राप्त हुई, जिसके बाद उमस से राहत मिली। लेकिन दोपहर बाद पुन उमस का असर रहा। बारिश के दौरान जसवंतपुरा में भी करीब 3 घंटे तक बिजली चमकने और बादलों की गर्जन का दौर जारी रहा।

मंगलवार रात की बारिश के दौरान बारिश शुुरु होने से करीब दो घंटे पूर्व बिजली के कडकने व बादलो की गर्जन का क्रम शुरु हो गया। जिसके बाद देर रात करीब पौने एक बजे बारिश शुरु हुई। बारिश के साथ ही बादलों की गर्जन लगातार जारी रहा और बिजली चमकने का दौर भी जारी रहा। करीब एक घंटे तक बारिश के बाद भी बादलो की गर्जन व बिजली चमकनी जारी रही, जो बरसात के बंद होने के बाद भी 3 घंटे तक जारी रही। बादलों की लगातार गर्जन व बिजली चमकने के कारण पहाडी क्षेत्र के लोगांे में भय का माहौल रहा। दो दिन पूर्व जयपुर के आमेर महल की घटना के बाद लगातार जारी इस गर्जन व कडकाहट से लोगों में दुर्घटना की आशंका सताने लगी। जिससे जसवंतपुरा में लोग रातभर सो भी नही पाये।

आहोर क्षेत्र में मंगलवार व बुधवार को पूरें दिन भीषण गर्मी का आलम रहा। गत 24 घंटाे में कई दिनों से पड़ रही भीषण गर्मी से आमजन का हाल बेहाल हो रखा था, वही बुधवार दोपहर को अचानक बारिश शुरू हो गई। जिससे कुछ ही देर में तेज बारिश से सड़को पर पानी बहना शुरू हो गया। जिससे तेज बारिश से आमजन को गर्मी से राहत मिली। इसी तरह सुराणा कस्बे में मंगलवार दिनभर तेज गर्मी के बाद शाम को बादल छाए और रात करीब 11:25 पर शुरू हुई। इससे किसानों के चेहरे पर भी मुस्कुराहटें आई। इसी तरह पावटा कस्बे समेत आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में बुधवार दोपहर को बारिश से किसानों को अच्छे जमाने की आस जगी।

खबरें और भी हैं...