औचक निरीक्षण:नरेगा साइट पर पहुंचीं कलेक्टर, 200 श्रमिकों के मस्टररोल में 59 नदारद मिलने से जताई नाराजगी

गुडाबालोतान2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निकटवर्ती अगवरी में स्थित गोचर भूमि पर चारागाह विकास योजना के तहत चल रहे मनरेगा कार्य का बुधवार को कलेक्टर नर्मता वृष्णी ने आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने श्रमिकों की उपस्थिति संबंधित संपूर्ण जानकारी ली। इस कार्य के लिए ग्राम पंचायत द्वारा करीब 200 श्रमिकों का मस्टररोल जारी करवाया गया था।

श्रमिकों की उपस्थिति जांचने पर मौके पर 141 श्रमिक ही पाए गए। श्रमिकों की उपस्थिति में कमी पाए जाने पर कलेक्टर ने नाराजगी जाहिर की। अनुपस्थित श्रमिकों को पाबंद करने या उनकी जगह पर दूसरे श्रमिकों के नाम जोड़ने के निर्देश दिए।

इसी के साथ अगवरी ग्राम विकास अधिकारी हंसराज भाटी से कार्य की स्वीकृति एवं प्रस्तावित बजट के बारे में जानकारी ली गई। कलेक्टर को ग्राम विकास अधिकारी ने बताया कि अगवरी ग्राम पंचायत की गोचर भूमि पर चारागाह विकास योजना के तहत चारागाह विकास के लिए करीब 19 लाख 94 हजार रुपए का बजट प्रस्तावित है।

जिसके तहत चारागाह विकास के लिए हरी धामण घास, 400 पौधों का पौधरोपण करवाने और गोचर भूमि की मेड़बंदी धोरापाली करवाने का कार्य करवाया जा रहा है। इसी कड़ी में बेसहारा विचरण करने वाले पशुओं के आश्रय के लिए कांजी हाउस तैयार करवाया जाएगा।

इसके तहत कार्य प्रगति पर चल रहा है। इस दौरान कलेक्टर ने गोचर भूमि पर लगाए गए पौधों व धामण घास के संरक्षण एवं सुरक्षा की तमाम जिम्मेदारी निभाने के लिए ग्राम पंचायत को कड़े निर्देश दिए।

निरीक्षण के दौरान मौके पर आहोर उपखंड अधिकारी मसिंगाराम जांगिड़, कार्यवाहक आहोर विकास अधिकारी अशोक कुमार माली, अगवरी सरपंच दुर्गा कंवर राजपुरोहित, ग्राम विकास अधिकारी हंसराज भाटी, जीटीए रूपेंद्र मीणा, ग्राम रोजगार सहायक कमलेश कुमार धवल, उप सरपंच सुरेश कुमार मीणा, महेंद्रसिंह राजपुरोहित समेत नरेगा मेट एवं महिला पुरुष श्रमिक मौजूद थे।

नरेगा श्रमिकाें से पूछी समस्याएं

कलेक्टर ने चारागाह में उगाई गई धामण घास व पौधों का निरीक्षण करते हुआ नरेगा श्रमिकों से कार्यस्थल पर हो रही किसी तरह की परेशानी व समस्या के बारे में पूछा। जिसमे नरेगा श्रमिकों ने बताया कि हमें कार्यस्थल पर कोई परेशानी नहीं है, छाया पानी की पूरी व्यवस्था है। और कार्य करने के दौरान भी किसी तरह की कोई समस्या या परेशानी नहीं है। जाते समय कलेक्टर ने मस्टररोल में अपने हाथों से गैरहाजिर श्रमिकों की अनुपस्थिति दर्ज की।

खबरें और भी हैं...