मौसम का बदला मिजाज:कोहरा: दूरदृष्टि सिर्फ 20 मीटर रह गई; रात में 2.9 डिग्री गिरा तो दि‍‍न में 3.6 चढ़ गया तापमान

जालोर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोहरे के बीच सडक़ पर कूदता बंदर व गुजरते वाहन। - Dainik Bhaskar
कोहरे के बीच सडक़ पर कूदता बंदर व गुजरते वाहन।

पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने के बाद जिले में हुई बूंदाबांदी से अब पिछले दो दिनों से सुबह 10 बजे तक घना कोहरे में जिला डूबा रहा है। शुक्रवार को सुबह 10 बजे तक दूरदृश्यता केवल 20 मीटर तक ही थी, उसके आगे कुछ भी नजर नहीं आ रहा था। हालांकि बूंदाबांदी के बाद सर्दी का भी असर धीरे-धीरे अब बढ़ने लगा है।

शुक्रवार को भी न्यूनतम पारा 2.9 डिग्री गिरकर 12.2 पर पहुंच गया। हालांकि अधिकतम पारा शुक्रवार को 3.6 डिग्री बढ़ते हुए 24.9 पर पहुंचा। न्यूनतम पारा पिछले दो दिनों से बढ़ने के बाद अब सर्दी का असर बढ़ रहा है। वहीं शुक्रवार सुबह अधिक कोहरा छा जाने से वाहन चालकों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा, घना कोहरा होने से सड़क पर सुबह 10 बजे तक लाइटें जलाकर वाहन चलाने पड़े थे। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार आगामी एक-दो दिनों तक इसी तरह के हालात रहने की संभावना है। फिलहाल रात वाली सर्दी से राहत के आसार नहीं हैं।

जिले में दो दिन से एक जैसा मौसम

5 जनवरी को जिले में बूंदाबांदी हुई थी। उस दिन दिन व रात के पारे में केवल 1.8 डिग्री का अंतर था। लेकिन उसके बाद दो दिनों से दिन का पारा बढ़ रहा हैं एवं रात का गिर रहा है। दिन का पारा शुक्रवार को 24.9 डिग्री पर पहुंच गया एवं रात का पारा 12. 2 पर आ गया। यह पिछले दो दिनों से हो रहा है।

आगे क्या एक-दो दिन ऐसा रहेगा पारा
मौसम वैज्ञानिक आनंद कुमार शर्मा ने बताा कि आगामी एक-दो दिनों में मौसम इस तरह रहने की संभावना हैं। वहीं सर्दी का आसर भी आने वाले दिनों में बढ़ेगा। उन्होंने किसानों को सलाह दी हैं कि फसलों में सिंचाई व रासायनिक छ़िड़काव स्थगित रखनी होगी।

ओस जमी तो नहीं, ठहर गई
कोहरा अधिक छाने रहने से ओस की जगह-जगह बूंदें सुबह 10 बजे तक दिखी। रेलवे स्टेशन के बैंच के साथ-साथ बने ब्रिज, वाहनों समेत खुली जगहों पर ओस की बूंदें जमी रही। हालांकि सर्दी सुबह के समय भी तेज रहने से लोग गर्म कपड़ों में घर से दोपहर को भी बाहर निकलें।

खबरें और भी हैं...