निर्भरता कम हुई:श्मशान घाट पर स्थापित होगी गैस से चलने वाली ऑटोमेटिक शवदाह भट्टी

आबूरोड2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आबूरोड अमरापुरी श्मशान घाट पर जल्द ही गैस से चलने वाली ऑटोमेटिक शवदाह भट्टी स्थापित होगी। इसके लिए नगर पालिका की ओर से नियम अनुसार तकमीना तैयार कर तकनीकी स्वीकृति जारी कर दी गई है। इसके लिए गत 3 माह से पालिकाध्यक्ष मगनदान चारण इसके लिए प्रयास कर रहे थे। इसमें क्षेत्रीय विधायक जगसीराम कोली ने 35 लाख रुपए आवंटित किए है। वही तकमीने के अनुसार इसकी लागत 45 लाख 48 हजार रुपए हाेगी।

कुल लागत में कम पड़ रही 10 लाख 48 हजार रुपए की राशि के लिए पालिका से वित्तीय स्वीकृति दी जाने के साथ जिला परिषद को अनुशंसा पत्र जारी किया जा चुका है। आबूरोड नगर पालिका क्षेत्र के नदी किनारे स्थित अग्रवाल समाज आबूरोड की ओर से संचालित श्मशान घाट पर लंबे समय से शवदाह के लिए ऑटोमेटिक मशीन लगाने की आवश्यकता थी, जिससे लकड़ियों पर निर्भरता कम की जा सके और पर्यावरण व वातावरण को दूषित होने से बचाया जा सके। नगर पालिका अध्यक्ष मगन दान चारण ने बताया कि श्मशान घाट में गैस वाली भट्टी लगवाने, वेब स्क्रबर सिस्टम फिटिंग्स एवं 100 फीट की चिमनी लगवाने के लिए विधायक फंड से 35 लाख व अतिरिक्त राशि 10 लाख 48 हजार पालिका कोष से जारी किए गए है। इस कार्य के लिए कार्यकारी एजेंसी नगरपालिका आबूरोड है।

खबरें और भी हैं...