गोद:पालने में छोड़ी नवजात को अब महाराष्ट्र के दंपती ने अपनाया

जालोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 21 अगस्त को मिली थी पालना गृह में, अब साढ़े तीन महीने की

रक्षाबंधन से एक दिन पहले पालना गृह में मिली नवजात बच्ची को अब बेटी के रूप में अपनाने वाले भी आ गए हैं। महाराष्ट्र के दंपती ने मासूम को गोद ले लिया है। जब कलेक्टर नम्रता वृष्णि ने मासूम को अपने हाथों से दंपती को सौंपा तो उनके आंखों में खुशी के आंसू आ गए। गत 21 अगस्त को इसके सगे रिश्तेदार पालना गृह में छाेड़ गए थे।

फेंकें नहीं हमें दें की थीम पर राज्य सरकार द्वारा संचालित विशेषज्ञ दत्तक गृहण एजेंसी में आवासित बालिका को गोद दिया गया। सहायक निदेशक सुभाषचद्र मणि ने बताया कि कारा की वेबसाइट पर रेफरल होने के बाद बालिका को प्री एडोप्सन के तहत गोद दिया गया। इस अवसर पर बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष नैन सिंह राजपुरोहित, सदस्य मोड सिंह, रमेश कुमार, तरूण सोलंकी, लीला आशु सिंह शेखावत, दिलीप कुमार समेत मौजूद रहे।

साढ़े 3 माह पहले डॉक्टरों ने बचाई थी जान

साढ़े तीन माह पहले पालना गृह में मासूम मिली थी। जिसके बाद कुछ दिन एमसीएच अस्पताल में चिकित्सा विभाग की टीम में उपचार चला। उसके बाद विशेषज्ञ दत्तक गृहण एजेंसी में पल रही थी। अब मासूम को जिदंगी भर के लिए मां-बाप का प्यार मिल गया।

खबरें और भी हैं...