• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Pali
  • Jalore
  • No Bhadra On Rakshabandhan, Gajakesari Budhaditya Yoga; After The Saptarishi Tarpan, Brahmins Will Perform The Rituals Of Shravani Till Noon On This Day.

22 अगस्त को रक्षाबंधन:रक्षाबंधन पर भद्रा नहीं, गजकेसरी-बुधादित्य योग; सप्तऋषि तर्पण के बाद ब्राह्मण इसी दिन दोपहर तक करेंगे श्रावणी के उपाकर्म

जालोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सफेद और पीले धागे से बने रक्षा सूत्र बांधना शुभ फलदायक रहेगा

आगामी 22 अगस्त को इस बार भाई-बहन के पवित्र स्नेह का रक्षाबंधन पर्व पर शोभन, गजकेसरी और बुधादित्य योग रहेगा, जो इस दिन की शुभता में वृद्धिकारक रहेंगे। इन योगों के चलते राखी बंधवाना सुख और समृद्धिदायी रहेगा। खास बात यह है कि अशुभ माना जाने वाला भद्रा योग भी बाधक नहीं रहेगा, चूंकि वह एक दिन पहले ही रात में समाप्त हो जाएगा।

श्रावण पूर्णिमा 21 अगस्त को शाम 7.5 बजे शुरू होगी, जो अगले दिन शाम 5.32 तक रहेगी। पं. भवानी खंडेलवाल ने बताया कि इस दिन धनिष्ठा नक्षत्र के साथ शोभन, गजकेसरी और बुधादित्य योग का संयोग रहेगा। ये योग शुभता बढ़ाने वाले हैं। सूर्य-बुध व मंगल सिंह राशि में एक साथ रहेंगे, जिससे बुधादित्य योग बनेगा।

राखी बंधवाते समय... भाई-बहन काले कपड़े पहनने से बचें

श्रावण पूर्णिमा... 21 अगस्त को शाम 7.5 बजे होगी शुरुआत

  • सुबह-7.30 से 9.00 चर
  • सुबह-9.31 से 10.30 लाभ
  • दोपहर-1.30 से 3.00 शुभ
  • शाम-6.00 से 7.30
  • शाम-7.31 से 9.00 अमृत।

सिंह, वृश्चिक और धनु लग्न में राखी बंधवाना श्रेष्ठ रहेगा

ज्योतिषाचार्य पं. भवानी खंडेलवाल के मुताबिक इन विशेष योगों में राखी बंधवाना मंगलकारी रहेगा। इसी दिन देवगुरु बृहस्पति के साथ चंद्रमा की युति रहेगी, जिसके परिणाम स्वरूप इस अवधि में किए गए धार्मिक कार्य अधिक शुभफल देंगे।

सफेद व पीले धागे से बनी राखी का उपयोग किया जाना चाहिए। सफेद चंद्रमा और पीला बृहस्पति का रंग होता है। इसका असर स्वास्थ्य और शिक्षण कार्य पर भी होता है। राखी बंधवाते समय भाई और बहन दोनों ही काला वस्त्र धारण न करें। इस दिन सिंह, वृश्चिक व धनु लग्न के समय राखी बंधवाना श्रेष्ठ रहेगा। श्रावणी उपाकर्म भी इसी दिन किए जाएंगे। हेमाद्रि स्नान व जनेऊ आदि संस्कार दोपहर तक संपन्न करा लेना चाहिए।

खबरें और भी हैं...