पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उम्मीद:एकीकरण के दौरान बंद पड़ी स्कूलों को अब एकीकरण मुक्त की आस

मेंगलवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एकीकरण के बाद बंद होने से स्कूलों की सुविधाएं हो रही नकारा साबित, अब अभिभावकों को विद्यालय एकीकरण से मुक्त होने की आस

कस्बे में राजकीय प्राथमिक विद्यालय 2004 से संचालित हो रहा था। विद्यालय में पूर्णरूप से भौतिक सुविधाओं सेे सुसज्जित, भरपूर नांमाकन, 2022 तक भामाशाह की ओर से गोद लिया हुआ विद्यालय था। लेकिन पिछली सरकार के विद्यालय एकीकरण के फेसलें के बाद अब विद्यालय उत्कृष्ट श्रेणी का यह विद्यालय आज नकारा साबित हो रहा है।

विद्यालय एकीकरण के बाद बच्चों को तो दूरदराज जाने में समस्या हो ही रही हैं साथ ही विद्यालय विकास में सहयोग करने वाले दानदाताओं को भी मायूस होना पड़ रहा है। जिस विद्यालय में एक शिक्षक की मेहनत से चमन खिला था वो सरकारी योजनाओं के भेंट चढ़ कर आज उपयोग में नही लिया जा रहा है।

विद्यालय को एकीकरण से भामाशाह भी मायूस होकर दी जाने वाली सुविधाओं को अन्य स्कूल में देना बंद कर दिया। जिससे दिनों दिन नामांकन घट गया वही अब अभिभावकों को विद्यालय एकीकरण से मुक्त होने की आस है।

सुविधाओं व दूरी के कारण घटा नामांकन

पूर्ववर्ती सरकार की ओर से एक योजना संचालित की गई थी जिसमें विद्यालय को गोद लेकर विकास व नामांकन बढाने, विघार्थियों को सामग्री वितरण करने की योजनाएं चलाई गई थी। इस योजना के दौरान मेंगलवा के राजकीय प्राथमिक विद्यालय को भामाशाह को गोद देकर विकास कार्य करवाए जा रहे थे। जिसमें बच्चो को शिक्षण सामग्री, स्कूल ड्रेस, स्वेटर, स्कूल बेग एंव जूते मौजे वितरण किये जाते थे, जिसके चलते स्कूल में नामांकन बढ़ रहा था। लेकिन विद्यालय एकीकरण के बाद स्कूलों के मर्ज होने से भामाशाह के साथ बच्चे भी मायूस हो गये।

भामाशाह की ओर से प्राथमिक विद्यालय के लिए 50 हजार प्रतिवर्ष खर्च करने की सीमा थी। लेकिन अभी यह विद्यालय उच्च माध्यमिक में मर्ज है जिसकी सीमा 1.50 लाख है जो कि भामाशाह करने को राजी नही है। वही भामाशाह भी अपनी मनपंसद स्कूल व अपनी क्षेत्र में नही होने से उत्साहित नही है। साथ ही एकीकृत स्कूल कई विद्यार्थियो के घर से दूर होने के कारण इन सरकारी स्कूलों में नामांकन दिनोदिन घट रहा है।

इनका कहना है
^ पूर्व सरकार द्वारा विद्यालय मर्ज करने से भामाशाहों ने विकास कार्यों में सहयोग करना बंद कर दिया। जिस पर विद्यालय को अब शिक्षामंत्री और मुख्यमंत्री से वार्ता कर जल्द विद्यालय को एकीकरण मुक्त कराने का प्रयास करेंगे।
- रामलाल मेघवाल, पूर्व विधायक जालोर।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें