लूट के लिए हत्या:दानपात्र चुराने के लिए कुटिया में घुसे बदमाश, पुजारी जागा तो चाकू और सरियों से हत्या कर दी

जालोर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटना के बाद परिजनों से जानकारी लेती पुलिस। - Dainik Bhaskar
घटना के बाद परिजनों से जानकारी लेती पुलिस।
  • बागोड़ा क्षेत्र के धुंबड़िया में सोमवार देर रात की घटना, 24 घंटे बाद भी सुराग नहीं

बागोड़ा पुलिस थाना क्षेत्र के धुंबडिय़ा कस्बे में स्थित हनुमानजी कुटिया के पुजारी की हत्या कर बदमाशों ने दानपात्र चुरा लिया। सोमवार रात करीब 2 बजे अज्ञात बदमाशों ने पुजारी पर चाकू व सरियों से हमला कर दिया। घायल पुजारी ने तीन घंटे बाद दम तोड़ दिया।

जानकारी के अनुसार कुटिया में धुबंडिय़ा निवासी नैनूदास (72) पुत्र लच्छीराम वैष्णव कुटिया में सो रहा था। देररात को अज्ञात बदमाश कुटिया में घुसकर चाकू, सरियों व लात घूसे से मारपीट की बुजुर्ग को घायलावस्था में अस्पताल लेकर गए, जहां दम तोड़ दिया। घटना की सूचना के बाद बागोड़ा पुलिस मौके पर पहुंच शव को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बागोड़ा में रखवाया। मंगलवार दोपहर को शव का पोस्टमार्टम करने के बाद परिजनों को सौंप दिया। घटना के बाद ग्रामीणों समेत ब्राह्मण समाज ने आक्रोश जताते हुए तीन दिन के भीतर खुलासे की मांग करते हुए हथियारों को गिरफ्तार करने की मांग की।

आक्रोश : ब्राह्मण समाज ने आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर 3 दिन का अल्टीमेटम दिया

हमले के बाद ग्रामीणों समेत ब्राह्मण समाज के आक्रोश है। विप्र फाउंडेशन के तत्वाधान में समाज के लोगों ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर तीन दिन के भीतर हत्या का खुलासा करते हुए आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग रखी है। ज्ञापन में बताया कि तीन दिन के भीतर हत्या का खुलासा नहीं आंदोलन की चेतावनी दी है।

आशंका : 30 साल से इसी कुटिया में रह रहा था पुजारी, जाग जाने से बदमाशों ने हमला किया

बदमाश चोरी की नीयत से ही हनुमानजी की कुटिया में घुसे थे। क्योंकि कुटिया में रखा दानपात्र भी गायब है। बुजुर्ग के जाग जाने के कारण बदमाशों ने हमला कर दिया। घटना के बाद मंगलवार को एसपी हर्ष वर्धन अग्रवाला भी बागोड़ा पहुंचे। मंगलवार शाम तक पुलिस को आरोपियों का कोई सुराग नहीं लगा। नैनूदास अविवाहित एवं करीब 30 वर्ष से हनुमानजी की कुटिया बनाकर वहां ही निवासरत था। पुलिस थाने में अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मृतक के भतीज घेवरदास ने रिपोर्ट दर्ज करवाई।

घायल हालत में कुटिया के बाहर आकर पुजारी ने मचाया था शोर, घर लाते ही मौत

पुजारी के चिल्लाने के बाद आसपास के लोग कुटिया में पहुंचे। जिसके बाद पुलिस को भी सूचना दी गई। वहीं बुजुर्ग को बागोड़ा अस्पताल ले जाया गया। जहां निजी अस्पताल में उपचार करवाने के बाद वापिस घर लेकर आए तो बुजुर्ग की मौत हो गई। बुजुर्ग चिल्लाते हुए कुटिया से बाहर आया। सामने रह रहे लोगों से मदद मांगी। जिसके बाद उसके परिजनों को सूचना दी। सूचना पर परिजन पहुंचे एवं पुलिस को सूचना देते हुए बागोड़ा गए।

खबरें और भी हैं...