पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अव्यवस्था:अतिरिक्त कार्यभार वाले पटवार मंडलों का कार्य छह माह से हो रहा प्रभावित, कई काम अटके हुए

जालोर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अतिरिक्त कार्य वाले पटवार मंडल पर लटक रहे ताले। - Dainik Bhaskar
अतिरिक्त कार्य वाले पटवार मंडल पर लटक रहे ताले।
  • जिले के 126 अतिरिक्त पटवार मंडलों का कार्य, गिरदावरी समेत किसानों की केसीसी अटकी

पटवारियाें की कमी के कारण प्रशासन द्वारा कई पटवारियों को अतिरिक्त कार्य सौंप रखा था। लेकिन अपनी विभिन्न मांगे पूरी नही होने के कारण पटवारियों ने 16 जनवरी से अतिरिक्त कार्यभार का विरोध जताया जा रहा है। पटवारियो की इस विरोध के कारण जिलेभर में किसानों के दर्जनों कार्य प्रभावित हो रहे है, साथ ही विद्यार्थियों व आमजन के कार्य भी अटक रहे है।

जिले में कुल 325 पटवार मंडल है। जिनमें से 200 मंडलों पर पटवारी कार्यरत है, शेष 126 मंडलों पर ये ही पटवारी अतिरिक्त कार्यभार देख रहे थे। वहीं पटवारियों ने कई विगत मांगों को लेकर 16 जनवरी से अतिरिक्त कार्यभार का विरोध भी किया था, जो अब तक ग्रहण नही किया है। जिसके कारण जिलेभर में 126 पटवार मंडलों पर लोगों के कार्य प्रभावित हो रहे है। हडताल के करीब 170 दिन बाद भी हालात अभी तक जस के तस है, जिससे लोगों के जमाबंदी, गिरदावरी, नामांतरण, सत्यापन, भू संबंधित कार्य प्रभावित हो रहे है। साथ ही केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री बीमा योजना भी अटक गई है।

किसानों को फसल का नुकसान, नही हो पा रहे सर्वे
कोरोना काल की शुरुआत से पहले ही किसानों की फसलों को कई बार संकट झेलना पडा। टिड्‌डी दल के हमले, फसल में रोग, गत दो वर्षों से कई बार बेमौसम बारिश व अतिवृष्टि की मार से किसानों की फसल कई बार खराब हुई। लेकिन पटवारियों की रिक्त पदों पर नियुक्ति नही होने व उनकी मांगों पर अमल नही होने से किसानों की फसलों का सर्वे नही हो रहा है और उन्हें बीमा व अन्य लाभ नही मिल पा रहा है। कई बार तो क्राॅप कटिंग के अभाव में फसलें कट भी गई, लेकिन सर्वे नही होने के कारण किसान अभी तक लाभ से वंचित है। वही अपनी मांगाे को लेकर पटवारी दर्जनों बार आंदोलन कर मांगे रख चुके है।

मांगों को लेकर 16 जनवरी को अतिरिक्त कार्यभार का विरोध किया पर अब तक ग्रहण नहीं किया

इस प्रकार से प्रभावित हो रहा है कार्य

जिले में 325 में से 126 पटवारियों के पद रिक्त है, जिसके अंतर्गत 318 गांव आते है। पटवारी के आंदोलन के कारण इन क्षेत्रों के कार्य प्रभावित हो रहे है। जानकारी के अनुसार रिक्त पद वाले मंडलों पर प्रतिदिन जाति प्रमाणपत्र समेत 1250 कार्य करीब होते है। इस प्रकार 16 जनवरी से आज तक करीब 1 लाख 75 हजार कार्य प्रभावित हो रहे है। जिससे विद्यार्थियों के कई कार्य व तैयारियां अटकी हुई है।

किसानों के म्यूटेशन, भू नामांतरण, पंजीयन, केसीसी, गिरदावरी, जमाबंदी, क्रॉप कटिंग सर्वे, फसल बीमा समेत कई कार्य अटक गये है। इससे क्षेत्र के करीब 1.89 लाख किसानों के 3.50 लाख कार्य अटक गये है। वहीं इन बाधाओं के चलते किसानों के खराब हुई फसल का सर्वे नही हो पाएगा और फसल बीमा का लाभ भी नही मिल सकेगा।

अतिरिक्त कार्यभार से आमजन के कार्य प्रभावित हो रहे
राजस्थान पटवार संघ के बेनर तले वेतन विसंगति समेत अन्य मांगों को लेकर कई बार आवाज उठाई गई, लेकिन अभी तक कोई मांग पूरी नहीं की गई। जिसके कारण जिले के अतिरिक्त कार्य भार वाले मंडलों पर आमजन के कार्य प्रभावित हो रहे हैं। मूल पद के साथ-साथ काेराेना संक्रमण की राेकथाम के लिए जिम्मेदारी के साथ काम कर रहे।
घमाराम विश्नोई, ब्लॉक अध्यक्ष सांचौर।

खबरें और भी हैं...