गुस्से में किसान:जीएसएस आ बोले किसान- न बारिश हो रही न पूरे वॉल्टेज दे रहे, सूख रहीं फसलें

झाब3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुडंकी में हालीवाव से कुंडकी आने वाली 11 केवी बिजली लाइन के ताराें के हालात
  • जूनी बाली के जीएसएस में पर जुटे किसानों ने प्रदर्शन कर अधिकारियों को बुलाया

जूनी बाली गांव के जीएसएस में लगातार चल रही वॉल्टेज संबंधित समस्याओं को लेकर क्षेत्र के किसानों ने विरोध प्रदर्शन कर वॉल्टेज बढ़ाने व कार्मिकों को हटाने की मांग की। किसानों ने कई दिनों से बिजली आपूर्ति में वोल्टेज नहीं मिलने से परेशान होकर किसानों ने जीएसएस पर विरोध प्रदर्शन करते हुए अधिकारियों को मौके पर बुलाया तथा कार्मिकों के द्वारा की जा रही मनमानी से उन्हें हटाने की मांग की।

किसानों ने बताया कि खेतों में खड़ी फसलें बारिश नहीं होने से जलने के कगार पर है और जिन किसानों के कृषि कुंओं पर थ्री फेस कनेक्शन ले रखे हैं, मगर एक फीडर की तकनीकी खराबी के चलते उन्हें बिजली वॉल्टेज नहीं मिल रहा, जिससे बार-बार मोटरें जल रही। जिससे किसानों को आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है।

किसानों ने कहा कि इधर बारिश नहीं होने व कार्मिकों की लापरवाही का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। विरोध प्रदर्शन को देखते हुए डिस्कॉम सहायक अभियंता जितेंद्र श्रीमाली मौके पर पहुंचे। किसानों की समस्याओं का समाधान करने के लिए आश्वस्त किया। इस दौरान सरपंच मूलसिंह चौहान, नारणाराम सुथार, गेनसिंह, वगताराम सुथार, नरसीराम चौधरी, हरीसिंह, हंजाराम सुथार सहित क्षेत्र के किसान उपस्थित थे।

जीएसएस के पास मिले शराब के पव्वे

किसानों ने बताया कि कार्मिक रात के समय में शराब का सेवन कर सो जाते हैं। जिससे किसानों को रात में होने वाली परेशानी से जूझना पड़ रहा हैं। किसानों ने जीएसएस के पीछे भारी मात्रा में शराब के खाली पव्वे देखे, जिससे किसानों में रोष व्याप्त हैं व कार्मिकों को हटाने की मांग की।

चितलवाना : 7 फीट की ऊंचाई पर 11 केवी के तार, हादसे की आशंका

उपखंड क्षेत्र के कुडंकी गांव में हालीवाव से कुण्डकी आने वाली 11 कीवी बीजली लाइन के तार जमीन से मात्र 7 फीट की ऊंचाई पर लटक रहे हैं। अव्यवस्थित, झुके पोल व ढीले बिजली तार हादसे को न्याैता दे रहे हैं। गांव में बिजली तार महज सात से आठ फीट की ऊंचाई पर झूल रहे हैं।

ढीले बिजली तारों के चलते यहां के बाशिन्दों को खासी दिक्कत झेलनी पड़ रही हैं। इन बिजली तारों से हर समय हादसे की आशंका रहती है। हालीवाव व डूंगरी जीएसएस से निकलने वाली कई लाइनों के तार सात से आठ फीट की ऊंचाई पर झूल रहे हैं। जिससे खेत मे काम करते से फव्वारे की लाइन भी स्पर्श होती है।

यहां तक कि खेत में विचरण कर रहे ऊंट भी लाइन के स्पर्श होते हैं। लेकिन बीजली विभाग इन ढीले व झूलते तारों को की समस्या से निजात दिलाने का प्रयास नहीं कर रहा हैं। फिलहाल ऐसी कई जगह हैं जहां पोल भी जर्जर हैं जो कभी भी गिर सकते हैं उम्मीद हैं कि खबर देखने के बाद डिस्कॉम जरूर इन झुकते तारों को पोल लगाकर सही करेंगे।

हादसे का डर है

मेरे खेत में सात-आठ फीट की ऊंचाई पर ढीले तार लटक रहे हैं, जिससे कभी भी बड़ा हादसा हो सकता हैं। कई बार डिस्कॉम काे अवगत करवाया हैं। - जेरूपाराम पुनिया, ग्रामीण कुण्डकी

खबरें और भी हैं...