स्वच्छ भारत मिशन:कचरा पात्र की बजाय सड़कों पर बिखरा रहता है कचरा

मंडार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ग्राम पंचायत मगरीवाड़ा में पंचायत की ओर से गांव में दो से तीन लाख की लागत से जगह जगह कचरा पात्र बनाए गए थे। ताकि घरों से निकलने वाला कुड़ा इन पात्रों में डाला जाए और बाद में पंचायत की ओर से इसको हटाने का प्रावधान था, लेकिन कचरा पात्र एक बार भरने के बाद पंचायत की ओर से एक बार भी नही हटाया गया। जिसको लेकर गांव के लोगो की ओर से कचरा पात्र में डालने के बजाय मुख्य मार्ग पर डाल दिया जाता हैं। जिसके कारण जगह जगह कचरे के ढेर लगे नजर आते हैं।

गांव के लोगो का कहना है कि पंचायत की ओर से सरकार का और हमारे पैंसो का सही उपयोग नही किया गया और प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन में खुद के काम को बेहतर दिखाने के लिए गांव में बिना गह चिन्हित किए बेमतलब की जगहों पर कचरा पात्र बना दिए। वहीं कचरा पात्र के भर जाने के बाद लोगों की ओर से मुख्य मार्ग पर खाली पड़ी जमीन प कचरा डाल दिया जाता हैं।

क्षेत्र के बाण माता मंदिर जाने वाले मार्ग पर चार से पांच कचरा पात्र बनाए गए थे, लेकिन अब इन पात्रों में किसी तरह का कचरा नही डाला जाता हैं।लोगों की ओर से पास ही की जमीन या मुख्य मार्ग पर कचरा डाल दिया जाता हैं। इसके कारण मंदिर में आने वाले श्रद्घालुओं को आए दिन परेशानी का सामना करना पड़ता हैं।

ग्राम पंचायत मगरीवाड़ा के उपसरपंच विक्रम सिंह देवडा ने कहा कि पंचायत बैठक में पूर्व पंचायत के कार्यकाल में जो कचरा पात्र बनाए गए थे उसके बारे में प्रस्ताव रखा जाएगा और जांच की जाएगी।

खबरें और भी हैं...