पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शराब तस्करी:5 5 जिलों की टीमों का धावा, गुजरात जा रही 2 करोड़ की शराब, 15 वाहन जब्त

माउंट आबू23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भारजा में हुई कार्रवाई के दौरान पकडे गए आरोपियों को आबकारी थाने लाया गया। - Dainik Bhaskar
भारजा में हुई कार्रवाई के दौरान पकडे गए आरोपियों को आबकारी थाने लाया गया।
  • बाड़े में बने गोदाम में था हरियाणा-चंडीगढ़ निर्मित शराब की 1880 पेटियाें का जखीरा, सिरोही की आबकारी टीम व पुलिस को भनक नहीं लगने दी
  • प्रदेश की सबसे बड़ी कार्रवाई रोहिड़ा में बाड़े में अल सुबह दबिश

पहला एक्शन: 11 गिरफ्तार, कई मौके से भागे, सरगना का अभी खुलासा नहीं

अगला एक्शन: मिलीभगत वाले अफसर रडार पर, जांच होते ही होगी कार्रवाई

आबकारी विभाग ने शराब तस्करी के खिलाफ सबसे बड़े गुप्त ऑपरेशन के तहत राेहिड़ा थाना क्षेत्र के भुजेला गांव में धावा बोला। रविवार अल सुबह 5:30 बजे हुई कार्रवाई से स्थानीय पुलिस और आबकारी के अधिकारी अनजान थे। यहां से 1 हजार 880 शराब की पेटियां बरामद कर 15 वाहनाें काे जब्त कर लिया। यह शराब करीब डेढ़ से दो करोड़ रुपए की है। हरियाणा-चंडीगढ़ निर्मित शराब को गुजरात पहुंचाना था। कार्रवाई के दाैरान 11 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया, जबकि कुछ लाेग फरार हाे गए। सभी वाहनाें में शराब भरी हुई थी।

आबकारी विभाग के उदयपुर आयुक्त डाॅ. जाेगाराम ने ऑपरेशन का ब्लू प्रिंट 15 दिन पहले से बना लिया गया था। प्रदेश के 5 बेस्ट अफसरों के नेतृत्व में तैयार टीम के सदस्यों के फोन भी अलग रखवा लिए गए थे। दरअसल, 15 दिन पहले उदयपुर आयुक्त काे इस तरह के नेटवर्क काे लेकर इनपुट मिला था। आबकारी आयुक्त ने बताया कि इसमें मुखबीर और तकनीकी सहायता भी ली गई। टीम को एक दिन पहले तक नहीं पता था कि यह कार्रवाई कहां और कब करनी है। इसके साथ पिछले 15 दिनाें से माॅनिटरिंग के साथ तकनीकी मदद से ट्रेकिंग की जा रही थी।

इतने बड़े ऑपरेशन काे अंजाम देने के लिए अधिकारी हथियाराें से लैस हाेकर रवाना हुए। रविवार अल सुबह करीब 5:30 बजे टीम ने भुजेला स्थित एक खेत पर बने बाड़े में बने गाेदाम पर दबिश दी। सहायक आबकारी अधिकारी राणा प्रताप सिंह के नेतृत्व में नारायण सिंह पीओ लक्ष्मणगढ़ अलवर, जगदीश बिश्नोई पीओ भीनमाल, नरेंद्र सिंह पीओ बांसवाड़ा व पीओ बंकर सिंह अजमेर के अधिकारियाें की टीम ने कार्रवाई की।इन सभी आरोपियों काे आबूराेड स्थित आबकारी थाने लाया गया।

बड़े तस्कर अभी दूर मौके से पकड़े गए ज्यादातर आरोपी उदयपुर व राजसमंद के
गिरफ्तार आरोपियों में महेंद्र सिंह थाना जावर माइंस जिला उदयपुर, निर्भय सिंह निवासी सलूंबर जिला उदयपुर, वीरेंद्र सिंह निवासी दादिया का खेड़ा जिला उदयपुर, प्रकाश चंद्र रेबारी निवासी हवाला खुर्द शिल्पग्राम के पास उदयपुर, मनोज कुमार मीणा निवासी काठवीं जिला उदयपुर, मांगीलाल निवासी छोटा भानुजा जिला राजसमंद, लक्ष्मण गरासिया निवासी भारजा जिला सिरोही, चैन राम डांगी निवासी नरवा थाना मावली उदयपुर, गंगाराम निवासी आसना उदयपुर, वर्दी चंद्र डांगी निवासी रामा थाना सुखेर उदयपुर, विष्णु डांगी निवासी रामा थाना सुखेर जिला उदयपुर है।

धावा मिलीभगत पर भी विभाग ने माना- अपनों की सांठगांठ के बिना संभव नहीं
कार्रवाई के बाद प्रदेशभर में हलचल मच गई। हरियाणा से राजस्थान शराब लेकर आना और यहां से अलग-अलग वाहनाें में गुजरात सप्लाई करना यह हैरान करने वाला है। इतने बड़े रूट पर सप्लाई और जखीरा रखना बिना मिलीभगत संभव नहीं। इधर, इस मामले काे लेकर विभागीय जांच भी हाेगी। विभाग के अधिकारियाें काे संदेह है कि इसमें सरकारी तंत्र के कुछ लाेग भी शामिल हाे सकते हैं। इसके लिए जांच कर ऐसे लाेगाें काे चिह्नित किया जाएगा और रिपाेर्ट आने के बाद विभागीय कार्रवाई भी की जाएगी।

3 दिन पहले विधायक ने कहा था
कार्रवाई करने वालों को तो लाइन हाजिर कर देते हैं

कुछ दिनाें पूर्व आबू- पिंडवाडा विधायक समाराम गरासिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सोशल मीडिया पर टैग करते हुए लिखा था- गुजरात सीमा से सटे सिराेही जिले में बाॅर्डर हाइवे मार्ग पर लाइन शब्द आखिर क्या है एसपी साहब.. जिले से तस्करी कर गुजरात में जा रही है हरियाणा निर्मित शराब पर कार्रवाई करने वाले पुलिसकर्मियाें काे मिलता है लाइन हाजिर का इनाम, क्या यहीं है अशाेक गहलाेत का सुशासन।
लिहाजा रविवार काे हुई इस कार्रवाई के बाद जिलेभर में हड़कंप मच गया। कार्रवाई में स्थानीय पुलिस व आबकारी विभाग के अधिकारियाें काे दूर ही रखा गया। जिसके बाद कई सवाल खड़े हाे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...