माउंट आबू में माइनस 4 डिग्री पहुंचा पारा:वादियों में छाया घना कोहरा, घरों की छतों-मैदान में जमी बर्फ, बर्फीली हवा चलने से बढ़ी गलन

माउंट आबू6 महीने पहले
माउंट की वादियों में सुबह घना कोहरा छाया नजर आया।

देश के उत्तरी इलाकों में भारी बर्फबारी और वहां से आ रही शीतलहर का असर प्रदेश में भी पड़ रहा है। कड़ाके की ठंड ने लोगों की कंपकंपी छुड़ा दी है। हिल स्टेशन माउंट आबू में भी लगातार 4 दिन से पारा माइनस में चल रहा है। बुधवार का यहां का न्यूनतम तापमान 1 डिग्री की गिरावट के साथ माइनस 4 डिग्री पहुंच गया है। मंगलवार की रात सीजन की सबसे सर्द रात रही। शहर में सुबह जगह-जगह बर्फ जमने के साथ ही घना कोहरा छाया नजर आया। माउंट का अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

माउंट आबू में लगातार चौथे दिन पारा माइनस में रहा। धूप निकलने के बाद भी लोगों को सर्दी से राहत नहीं मिली।
माउंट आबू में लगातार चौथे दिन पारा माइनस में रहा। धूप निकलने के बाद भी लोगों को सर्दी से राहत नहीं मिली।

माउंट में बुधवार को सुबह नक्की झील पर खड़ी बोट की सीट, बगीचों और मैदान में घास, मकान के छज्जों, खुले में खड़ी कारों के शीशों और छतों पर बर्फ की परत जम गई। गुरु शिखर, अचलगढ़, दिलवाड़ा और ओरिया क्षेत्र में पेड़ों की पत्तियों और झाड़ियों पर भी बर्फ जमी जर आई। कड़ाके की ठंड के कारण लोग सुबह देर तक घरों में ही रहे। सूरज निकलने पर लोग घरों की छत पर धूप सेंकते नजर आए। धूप खिलने के बाद भी लोगों को सर्दी से राहत नहीं मिल पा रही है।

माउंट में सुबह पेड़-पौधों की टहनियों और झाड़ियों पर बर्फ जमी नजर आई।
माउंट में सुबह पेड़-पौधों की टहनियों और झाड़ियों पर बर्फ जमी नजर आई।
गुरु शिखर, अचलगढ़, दिलवाड़ा और ओरिया क्षेत्र में जंगल में जगह-जगह बर्फ जमी दिखी।
गुरु शिखर, अचलगढ़, दिलवाड़ा और ओरिया क्षेत्र में जंगल में जगह-जगह बर्फ जमी दिखी।

मौसम विभाग के अनुसार माउंट आबू सहित जिले भर में अगले सप्ताह भर तक ऐसा ही मौसम बना रहने की संभावना है। माउंट आबू में तापमान भी जमाव बिंदु और इससे नीचे रहने का अनुमान है। माउंट आबू में 10 से 12 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से ठंडी हवा चलने से भी गलन बढ़ गई है। माउंट आबू में शीतलहर चलने से आम जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है।

घरों के बाहर खड़ी कारों की छत पर भी बर्फ की मोटी परत नजर आई।
घरों के बाहर खड़ी कारों की छत पर भी बर्फ की मोटी परत नजर आई।