सीबीएसई की तैयारी:सीसीई पैटर्न पर तैयार हो सकता है 10वीं बोर्ड का रिजल्ट

पाली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीबीएसई प्रदेश की 767 सीबीएसई स्कूलों में 1.50 लाख के करीब विद्यार्थियों का नामांकन

सीबीएसई 10वीं बोर्ड की 4 मई को होने वाली परीक्षा स्थगित हो चुकी है। अब बोर्ड सीसीई पैटर्न के मॉडल पर रिजल्ट देने की तैयारी कर रहा है।

जिले के 40 सीबीएसई स्कूल में पढ़ने वाले करीब 5 हजार विद्यार्थियों को प्रमोट किया जा चुका है। जबकि प्रदेश की 767 सीबीएसई स्कूलों में 1.50 लाख के करीब विद्यार्थियों का नामांकन है। कोरोना महामारी को देखते हुए कक्षा 10वीं की परीक्षाएं रद्द होने के बाद विद्यार्थियों का मूल्यांकन सत्र की गतिविधियों के आधार पर ही होगा।

शैक्षणिक सत्र के प्रदर्शन के आधार पर ही उन्हें कक्षा 11वीं में प्रवेश मिलेगा। बोर्ड ने सीबीएसई से संबद्धता प्राप्त स्कूलों को 15 बिंदुओं का एक फॉर्मेट भेजा है, जिसकी जानकारी स्कूलों को भरकर देनी है। इसमें प्री-बोर्ड, मिडटर्म, प्रैक्टिकल परीक्षा, इंटरनल असेसमेंट, प्रोजेक्ट वर्क, असाइनमेंट आदि को शामिल किया गया है। बोर्ड की मानें तो स्कूलों से मिलने वाली जानकारी के आधार पर कक्षा 10वीं का मूल्यांकन किया जाएगा।

5 साल पहले भी जब कक्षा 10वीं में सतत और व्यापक मूल्यांकन (सीसीई स्कीम) लागू था, तब विद्यार्थियों का मूल्यांकन उनके विभिन्न प्रदर्शन के आधार पर किया जाता था।

जिसके बाद वर्ष 2017 में बोर्ड पैटर्न लागू कर दिया गया था। जिसमें 20 फीसदी अंक स्कूल से भेजे जाते थे और बचे अंको के लिए बोर्ड की लिखित परीक्षा होती थी। जबकि सीसीई पैटर्न में लिखित परीक्षा के 60 फीसदी अंक और 40 फीसदी अंक सत्र के दौरान विद्यार्थियों के प्रदर्शन के आधार पर मिलते थे।

डेटाबेस एनालिसिस, ताकि तैयारी का लग सके पता
बोर्ड की ओर से स्कूलों को कई सवाल पूछे गए हैं। ताकि रिजल्ट के लिए स्कूलों की तैयारी का भी आंकलन हो सके। इसके लिए स्कूलों से टेस्ट, परीक्षा मिड-टर्म, प्री-बोर्ड आदि की जानकारी मांगी गई है।

यह भी पूछा गया कि स्कूल ने इनका मोड क्या रखा था? यानी एग्जाम अलाइन हुए थे या ऑफलाइन। यहां तक पूछा गया है कि आवश्यकता पड़ने पर स्कूल की ओर से इस संबंध में बोर्ड को तथ्य दे पाएंगे? संभावना है कि इन प्रश्नों के आधार पर स्कूल की मार्कशीट तैयार होगी।

खबरें और भी हैं...