कृषक प्रशिक्षण:दुग्ध उत्पादन व पशु प्रबंधन तकनीक पर 5 दिवसीय कृषक प्रशिक्षण का हुआ समापन

पाली14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

वैटरनरी विश्वविद्यालय के पशु आपदा प्रबंधन तकनीक केंद्र व कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन अभिकरण आत्मा कृषि विभाग के संयुक्त तत्वावधान में दुग्ध उत्पादन व पशु प्रबंधन तकनीक विषय पर 5 दिवसीय कृषक प्रशिक्षण सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण में नागौर जिले के 30 पशुपालक व किसानों ने भाग लिया।

केन्द्र के मुख्य अन्वेषक प्रो. प्रवीण बिश्नोई ने बताया कि 3 से 7 जनवरी तक चले प्रशिक्षण शिविर में प्रशिक्षणार्थियों को विभिन्न सत्रों में दुग्ध उत्पादन व पशु प्रबंधन विषय पर विशेषज्ञों ने व्याख्यान प्रस्तुत किए। इस प्रशिक्षण में प्रो. प्रवीण बिश्नोई ने पशु व्यवहार पर आपदाओं का प्रभाव, डॉ. एसके झीरवाल ने पशु में नेत्र रोगों का बचाव व उपचार, डॉ. सोहेल मोहम्मद ने जलवायु परिवर्तन का पशु स्वास्थ्य पर प्रभाव तथा शैलेन्द्र सिंह ने पशुपालन में आपदा प्रबंधन का महत्व विषयों पर व्याख्यान दिए।

प्रशिक्षणार्थियों को विश्वविद्यालय के कुक्कुटशाला, डेयरी, पशु अनुसंधान केन्द्र, कोडमदेसर, राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र व राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्रों का भ्रमण करवाकर विभिन्न तकनीक व प्रायोगिक कार्यों से अवगत करवाया गया। प्रशिक्षण में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले पशुपालकों को पुरस्कार प्रदान किए गए व सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण-पत्र प्रदान किए गये। इस अवसर पर श्रवण कुमार चौहान कृषि पर्यवेक्षक, आत्मा कृषि विभाग, नागौर मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...