CM दौरे से पहले आयुक्त और लेखा शाखा प्रभारी सस्पेंड:पहले किया था APO, ठेकेदार के सुसाइड नोट में था नाम

पाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाली नगर परिषद के तत्कालीन आयुक्त बृजेश रॉय और लेखा शाखा के नरेश चौधरी। - Dainik Bhaskar
पाली नगर परिषद के तत्कालीन आयुक्त बृजेश रॉय और लेखा शाखा के नरेश चौधरी।

CM अशोक गहलोत के पाली दौरे से ठीक एक दिन पहले पाली नगर परिषद के तत्कालीन आयुक्त बृजेश रॉय, लेखा शाखा नरेश चौधरी को सस्पेंड करने की कार्रवाई की गई। इसको लेकर सोमवार को एक लेटर जारी किया गया। दोनों को एपीओ किए जाने के 16 दिन बाद सस्पेंड किया गया है। बता दे कि आज दोपहर को सीएम अशोक गहलोत पाली आ रहे है। वे यहां 19 नर्सिंग कॉलेजों का वर्चुअल शिलान्यास करेंगे। उसके बाद रोहट क्षेत्र में निंबली ब्राह्मणन गांव में 18वीं राष्ट्रीय स्काउट गाइड जंबूरी स्थल का अवलोकन करेंगे।

बता दें कि 4 नवम्बर को नगर परिषद ठेकेदार हनुमान सिंह राजपुरोहित ने ढाबर गांव में अपने घर में फांसी लगाकर जान दे दी थी। एक दो पेज का सुसाइड नोट मिला था। हनुमान सिंह ने नगर परिषद में अपने दो करोड़ रुपए बकाया होने का जिक्र किया और लिखा की ज्यादा कमीशन के चक्कर में उनका पेमेंट नगर परिषद में अटका हुआ है। ऐसे में उन्हें बैंक डिफाल्टर होना पड़ रहा है। बैंक की किश्तें वे भर नहीं पा रहे है। जिन लोगों से उन्होंने उधार लिया उनके रुपए चुकान में उन्हें दिक्क्त हो रही है।

सुसाइड नोट में उन्होंने नगर परिषद आयुक्त बृजेश रॉय, सभापति रेखा भाटी, उनके पार्षद पति राकेश भाटी और लेखा शाखा के नरेश चौधरी को अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराया था। घटना को लेकर राजपुरोहित समाज, ठेकेदारों ने धरना दिया था। मृतक के पुत्र ने रोहट थाने में उनके पिता को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज कराया था।

यह भी पढ़े : ठेकेदार हनुमानसिंह राजपुरोहित आत्महत्या प्रकरण:आयुक्त-एओ APO, 78 लाख का चेक दिया, शेष 10 दिन में देने के आश्वासन पर माने, इधर लगे सांसद हाय-हाय के नारे

यह भी पढ़े : कमीशन के खेल में सभापति रेखा भाटी भाजपा से निलंबित:बकाया पेमेंट अटकने से ठेकेदार हनुमानसिंह को करना पड़ा था सुसाइड, अधिकारी भी कमीशनखोरी में शामिल