पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Pali
  • Along With Jawai, There Will Also Be A Hydrographic Survey Of Eight Dams Of The State, The Soil Of The Bottom Will Be Tested.

केंद्रीय जल आयोग:जवाई के साथ राज्य के आठ बांधों का भी होगा हाइड्राेग्राफिक सर्वे, पैंदे की मिट्टी की जांच होगी

पाली24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • केंद्रीय जल आयोग ने नेशनल हाइड्रोलॉजी प्रोजेक्ट के फेज-प्रथम में किया शामिल

केंद्रीय जल आयोग ने जवाई बांध समेत राज्य के 8 बांधों के पैंदे के पानी की जांच करने और रिपोर्ट तैयार करने के लिए हाइड्राेग्राफिक सर्वे शुरू किया है। केंद्रीय जल आयोग द्वारा यह सर्वे नेशनल हाइड्रोलॉजी प्रोजेक्ट (एनएचपी) फेज-प्रथम के तहत करवाया जा रहा है। इसकाे लेकर टाेजा विकास इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड काे काम सौंपा है। टीम ने राज्य के चिह्नित बांधों पर पहुंचकर खुद के संसाधनों से साथ सर्वे भी शुरू कर दिया है। इस सर्वे में कंपनी काे डेड स्टोरेज के पानी की गणित और मिट्टी का पूरा आकलन कर रिपोर्ट पेश करनी है। कंपनी काे सर्वे करने के साथ ही पूरी रिपोर्ट 3 साल तक पूरा करने का समय दिया गया है।

गौरतलब है कि राज्य के कई बांधों में लंबे समय तक सर्वे नहीं हाेने के चलते पानी के भराव काे लेकर स्पष्ट गणित नहीं मिल पाती है। इससे बांध की सुरक्षा व क्षमता पर भी असर पड़ रहा है। कई जगहाें पर 30 से 40 साल तक पहले किए गए सर्वे के ही आंकड़े चल रहे हैं, हर साल हाेने वाली बारिश में मिट्टी बहकर बांध में जमा हाेती रहती है।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार पूर्व में केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) ने राज्य बड़े बांधों की सूची मांगी थी। इसमें पश्चिमी राजस्थान के सबसे बड़े बांध जवाई के अलावा काेटा में चंबल नदी पर बने राणाप्रताप सागर, प्रभाती व काेटा बैराज, जयपुर जाेन में बनास नदी पर बने बीसलपुर, उदयपुर जाेन में साेम व गाेमती नदी पर बने साेम कमला अंबा, जाखम नदी पर बने जाखम डैम व गाेमती बनास नदी पर बना राजसमंद शामिल है।

सेंसर के जरिए करेंगे डीप एरिया की जांच
कंपनी द्वारा सर्वे में सेंसर के जरिए हाइड्राेग्राफिक व टाेपाेग्राफिक सर्वे किया जाएगा। दाेनाें ही सर्वे में सेंसर के जरिए बांध में अलग-अलग प्वाइंट बनाकर इसकी गहराई की नाप की जाएगी। साथ ही सेंसर के जरिए ही बांध की क्षमता व इसमें मिट्टी के बारे में पूरी जानकारी नाेट कर पूरी रिपोर्ट तैयार कर केंद्रीय जल आयोग काे साैंपेंगे।

^केंद्रीय जल आयोग की और से नेशनल हाइड्रोलॉजी प्रोजेक्ट के फेज-प्रथम के तहत जवाई बांध समेत राज्य के कुल 8 बांधों काे शामिल किया गया है। फर्म द्वारा सर्वे का काम भी शुरू किया जा चुका है। जवाई बांध का भी सर्वे हाेगा। फर्म पूरी रिपोर्ट तैयार कर आयोग काे साैंपेंगी। इस संबंध में उच्चाधिकारियों के आदेश भी मिले है।
- मनीष परिहार, एसई जलसंसाधन विभाग पाली

खबरें और भी हैं...