पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पाली मूल निवासी अश्विनी वैष्णव बने केन्द्रीय मंत्री:पैतृक गांव जीवंद कलां, पिता दाऊलाल जीवंद कलां में सरपंच रह चुके हैं, ननिहाल खैरवा में खुशी का माहौल; मिठाई बांट ग्रामीणों ने जताई खुशी

पाली।16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वैष्णव के मंत्री बनने की खुशी में जीवंद कलां गांव में उनके रिश्तेदार व ग्रामीण मिठाई खिलाकर एक-दूसरे का मुंह मीठा करवाते हुए। - Dainik Bhaskar
वैष्णव के मंत्री बनने की खुशी में जीवंद कलां गांव में उनके रिश्तेदार व ग्रामीण मिठाई खिलाकर एक-दूसरे का मुंह मीठा करवाते हुए।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कैबिनेट विस्तार किया। जिसमें पाली मूल के अश्विनी वैष्णव को केंद्रीय मंत्री बनाया। वैष्णव को ओडिशा कोटे से मंत्री मंडल में शामिल किए गए। मूल रूप से पाली जिले के जीवंद कलां में अश्विनी का पैतृक मकान है तथा पाली जिले के खैरवा गांव में उनका ननिहाल है जहां उनका जन्म हुआ था।

उनके मंत्री बनने का समाचार मिलने पर उनके पैतृक गांव जीवंद कलां व ननिहार खैरवा गांव में परिवार के लोगों व ग्रामीणों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया तथा बीजेपी जिदांबाद के नारे लगाए। वैष्णव के पिता दाऊलाल जीवंद कलां में सरपंच रह चुके हैं।

पाली जिले के जीवंद कलां गांव में उनका पैतृक मकान।
पाली जिले के जीवंद कलां गांव में उनका पैतृक मकान।

दो साल पहले गावं में बनाया मकान
जीवंद कलां में अश्वनी वैष्णव का पैतृक मकान था। करीब दो वर्ष पूर्व जीवन्द कलां में लाखों रुपए खर्च का इनके परिजनों ने मकान बनाया। जिस पर वैष्णव का भी नाम लिखा हुआ हैं।

जीवन्द कलां में उनके घर के बाद लगा उनके नाम की पट्टी।
जीवन्द कलां में उनके घर के बाद लगा उनके नाम की पट्टी।

आईएएस से मंत्री बनने तक का ऐसा रहा सफर

पाली जिले के जीवंद कलां के मूल निवासी अश्विनी वैष्णव के पिता दाऊलाल काफी पहले जोधपुर शिफ्ट हो गए। यही कारण रहा कि अश्विन वैष्णव ने अपनी स्कूली शिक्षा जोधपुर में पूरी की। उसके बाद उन्होंने IIT कानपुर से बीटेक किया। 1994 में वे IAS बने। उनकी कार्य कुशलता ने वाजपेयी को प्रभावित किया और वे उन्हें अपने पीएमओ में ले आए।

इस दौरान वैष्णव का संपर्क नरेन्द्र मोदी से हुआ। 2004 में वाजपेयी सरकार की हार के बाद वैष्णव ने IAS से इस्तीफ दे दिया। कुछ समय तक पोर्ट ट्रस्ट से जुड़े रहे और बाद में अमेरिका चले गए। अमेरिका में भी उनका मन नहीं लगा और वे भारत लौट आए।

इसके बाद वे उड़ीसा सरकार के डिजास्टर मैनेजमेंट सलाहकार बने। मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के दौरान भी वैष्णव का उनसे संपर्क बना रहा। मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भी यह संपर्क कायम रहा। वैष्णव की कार्यशैली से प्रभावित मोदी आखिरकार उनको दो साल पहले राज्यसभा में लेकर आए। अश्विन वैष्णव के दो लड़के हैं और दोनों लंदन में पढ़ाई कर रहे हैं।

पाली जिले के जीवंद कलां के मूल निवासी अश्विन वैष्णव
पाली जिले के जीवंद कलां के मूल निवासी अश्विन वैष्णव
खबरें और भी हैं...