पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रदेश स्तरीय रैंकिंग में 17वें स्थान पर पाली:आत्मनिर्भर बनने के लिए बाली की 2017 बेटियां ले रहीं कम्प्यूटर काेर्स का प्रशिक्षण

पाली10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बाली में दिया जा रहा है महिलाओं काे सिलाई का प्रशिक्षण, एक साल में केवल 60 महिलाओं ने ही करवाया पंजीयन

जिले की बेटियों और महिलाओं काे आत्म निर्भर बनाने के लिए महिला अधिकारिता विभाग की ओर से कंप्यूटर काेर्स का निशुल्क प्रशिक्षण करवाया जा रहा है। इसमें बेटियों काे आरएससीआईटी बेसिक और आरएससीएफए वित्तीय लेखांकन का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। लेकिन याेजना का प्रचार प्रसार नहीं हाेने के कारण जिले की बेटियां इस याेजना का लाभ नहीं ले पा रहा ही है।

एक साल में केवल 2017 बेटियां आरकेसीएल और 115 बेटियां ही आरएससीएफए काेर्स से जुड़ पाई है। इसके चलते प्रदेश स्तरीय रैंकिंग में पाली जिला 17 वे स्थान पर रहा है। बेटियों काे अधिक से अधिक प्रशिक्षित करने में जयपुर प्रथम स्थान और सीकर दूसरे स्थान पर रहा है। इसमें जयपुर में सर्वाधिक 9965 और सीकर में 4332 बेटियां इंदिरा महिला शक्ति प्रशिक्षण एवं काैशल संवर्द्धन याेजना के तहत कंप्यूटर का प्रशिक्षण ले रही है।

जानकारी के अनुसार जिले की बेटियों काे कंप्यूटर के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने और महिलाओं काे स्वयं का सिलाई उद्याेग केंद्र के लिए प्रशिक्षित करने के लिए महिला अधिकारिता विभाग की ओर से इंदिरा महिला शक्ति प्रशिक्षण एवं काैशल संवर्द्धन याेजना के तहत निशुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा है। कंप्यूटर क्षेत्र के बेसिक काेर्स के लिए लड़कियों काे 10वीं में पास होना अनिवार्य है और वित्तीय लेखांकन के लिए बेटियों की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता बारहवीं पास होनी चाहिए।

कंप्यूटर संबंधित वित्तीय घटनाओं के बारे में प्रशिक्षण लेने के बाद बेटियां बैंक खाता तथा लेनदेन संबंधी ऑनलाइन कार्य कर सकती है। जिससे वे स्वयं काे आत्मनिर्भर महसूस कर सकती है। इसी तरह इसी याेजना में घरेलू महिलाओं काे सिलाई का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ताकि घर से स्वयं का राेजगार शुरू कर सके। लेकिन जिले की बेटियों काे इस याेजना की जानकारी नहीं हाेने के कारण अधिक से अधिक लाभ नहीं ले पा रही है।

काैशल सामर्थ्य में 60 महिलाएं ही ले रहीं प्रशिक्षण
महिलाओं काे आत्मनिर्भर बनाने के लिए चल सरकार द्वारा विभिन्न याेजनाओं के माध्यम से रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण दिया जा रहा है। काैशल सामर्थ्य याेजना में महिलाओं काे सिलाई, ब्यूटी पार्लर, कंप्यूटर सहित कई निशुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा हैं। लेकिन इसमें महिलाएं बहुत कम रूचि दिखा रही है। जिले में केवल 60 महिलाएं ही इसका प्रशिक्षण ले रही है।

जिले की बेटियों काे सशक्त करने के लिए रोजगारोन्मुखी कंप्यूटर काेर्स का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। काेराेना के चलते अभी ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जल्द ही ऑफलाइन कंप्यूटर क्लास भी शुरू कर बेटियों काे जाेड़ा जाएगा। -भागीरथ चाैधरी, सहायक निदेशक, महिला अधिकारिता विभाग,पाली

खबरें और भी हैं...