पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Pali
  • Case Registered In ACB Against Head Constable Tejaram For Demanding One And A Half Lakh Rupees In The Name Of SP, Sirohi Latest News Update

ACB की रडार पर सिराेही पुलिस:SP के नाम डेढ़ लाख रुपए मांगने वाले हेड कांस्टेबल तेजाराम पर FIR, विधायक बाेले- तस्करी कैसे हाे, उसके लिए काम कर रही पुलिस

पाली/सिरोही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शराब तस्करी में सिराेही पुलिस के गठजाेड़ का मामला सामने आने के बाद विजिलेंस और SOG ने जांच शुरू कर दी है। अब सिराेही पुलिस भी ACB की रडार पर आ गई है। SP हिम्मत अभिलाष टांक के नाम पर डेढ़ लाख रुपए मांगने की शिकायत के बाद ACB ने हेड कांस्टेबल तेजाराम समेत अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इसकी जांच ACB के अतिरिक्त महानिदेशक दिनेश एमएन के निर्देशन में की जाएगी। सिराेही में 30 मई काे प्रदेश के 5 आबकारी अधिकारियाें की ओर से हुई बड़ी कार्रवाई के बाद से स्थानीय पुलिस पर लगातार मिलीभगत के आरोप लग रहे हैं।

सिरोही थाने में जांच करने पहुंची अधिकारियों की टीम।
सिरोही थाने में जांच करने पहुंची अधिकारियों की टीम।

वीडियो आया था सामने

आबूराेड शहर पुलिस के कांस्टेबल देवेंद्र का एक वीडियाे सामने आया, जिसमें उसने बताया कि मार्च में हुई एक शराब तस्करी की कार्रवाई के बाद से एसपी नाराज चल रहे थे। प्री-प्लान तरीके से उसे मदुरई भेजा गया और उस पर यह आराेप लगाए गए कि वाे वहां से 3 लाख रुपए लेकर आया है। इस पर हेड कांस्टेबल तेजाराम ने एसपी हिम्मत अभिलाष टांक के नाम डेढ़ लाख रुपए मांगे और नहीं देने पर निलंबित कराने की धौंस दी। आखिर देवेंद्र निलंबित हाे गया। इस पूरे प्रकरण की शिकायत देवेंद्र ने एसीबी में की थी। एसीबी महानिदेशक बीएल साेनी ने भी हेड कास्टेबल के खिलाफ मामला दर्ज होने की पुष्टि की है।

विभाग के कर्मचारी ही लगाते रहे आराेप

इसी मामले में एक ऑडियाे भी सामने आया,जिसमें सिपाही देवेंद्र एक हेड कांस्टेबल से यह कह रहा है कि एसपी साहब आपके कंट्रोल में हैं और एक दिन की मोहलत ले लाे। वहीं आबूरोड शहर थाना अधिकारी की ओर से भी एक वीडियाे जारी कर बताया कि देवेंद्र जिस कार्रवाई का कह रहा है, उसमें वह था भी नहीं। इधर, हेड कांस्टेबल की ओर से अलग ही कहानी बनाई गई। उसने भी एक वीडियाे जारी कर बताया कि उसमें उसकी आवाज ही नहीं हैं। उसने किसी से रुपए नहीं मांगे और न ही वह किसी के संपर्क में है। हेड कांस्टेबल का कहना था कि देवेंद्र झूठ बाेल रहा है और शराब तस्करी के मामले काे इससे जोड़ तूल दे रहा हैै। जबकि अब उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हो चुकी है।

विधायक संयम लाेढ़ा ने ताेड़ी चुप्पी

विधायक संयम लाेढ़ा ने चुप्पी ताेड़ते हुए पुलिस मुख्यालय पर बैठे अधिकारियों पर भी सवाल खड़े किए। उन्हाेंने बताया कि मैंने डीजीपी एमएल लाठर से मुलाकात कर बताया था कि गुजरात तक की शराब तस्करी सीमावर्ती थानाें के जरिए हाेती है। इसकी वजह पुलिस मुख्यालय है। विधायक का कहना था कि गुजरात बाॅर्डर से सटे थानाें में सारे अधिकारी पुलिस मुख्यालय की सिफारिश से लगे हैं और मुख्यालय के कुछ अफसराें का इन थाना प्रभारियाें काे संरक्षण है। इसलिए ऐसे अधिकारी पुलिस की नाैकरी नहीं, बल्कि मुख्यालय के अफसराें के इशारे पर शराब तस्करी के लिए काम करते हैं। उन्होंने पुलिस मुख्यालय के सिस्टम पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि मंडार थाने में काेराेना काल में पिछले एक साल के अंदर करीब 4 थाना अधिकारियों का तबादला हो चुका है( इसके पीछे क्या कारण है। सिराेही जिले के अंदर 25 थानाें- चाैकियाें में लगे पुलिस अधिकारी विभाग की नाैकरी नहीं करते। वे लाेग अवैध कारोबार और शराब तस्करी कैसे हाे, उसके लिए काम करते हैं। विभाग से भी यह बात नहीं छिपी है।

अब बॉर्डर के थानाें पर हुई नियुक्तियों की जांच भी

इस मामले में विधायक संयम लोढ़ा के सवाल उठाने के बाद पुलिस मुख्यालय की ओर से भी इसे गंभीरता से लिया गया है। इस मामले में यह भी सामने आ रहा है कि सिराेही जिले के गुजरात बाॅर्डर से सटे थाने भी रडार पर हैं। यह पता लगाया जा रहा है कि किन-किन की सिफारिशों पर बाॅर्डर के थानाें पर नियुक्तियां दाे सालाें में की गईं। यदि ऐसा हुआ ताे आबकारी और पुलिस महकमे पर गाज गिर सकती है।