बाल आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल बोली:बाल पंचायतें बाल अधिकारों को संरक्षित करने के लिए बेहतरीन नवाचार

पाली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाली के रोहट में आयोजित डिजिटल बाल मेला और बाल पंचायत में मंचासीन अतिथि। - Dainik Bhaskar
पाली के रोहट में आयोजित डिजिटल बाल मेला और बाल पंचायत में मंचासीन अतिथि।

पाली जिले के रोहट के महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय में सोमवार को डिजिटल बाल मेला और यूनिसेफ की और से बाल पंचायत का आयोजन किया गया। जिसमें 500 के करीब बच्चों ने भाग लिया। बच्चों का मनोबल बढ़ाने के लिए बाल आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल, सरपंच भरत पटेल, द फ्यूचर सोसायटी से अंजना शर्मा मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम में पहुंचे।

पाली के रोहट में आयोजित डिजिटल बाल मेला और बाल पंचायत के दौरान पोस्टर का विमोचन करते अतिथि।
पाली के रोहट में आयोजित डिजिटल बाल मेला और बाल पंचायत के दौरान पोस्टर का विमोचन करते अतिथि।

बच्चों में लोकतांत्रिक मूल्यों को विकसित करने के लिए यह मुहिम शुरू की गई है। शिक्षा से सक्रियता और सहभागिता बढ़ाने के लिए आयोजित इस बाल पंचायत में बाल सरपंच बनने के लिए बड़ी संख्या में बच्चों ने दावेदारी पेश की। 23 बाल सरपंच दावेदार आगे आए जिसमें लड़कियों की संख्या ज़्यादा थी। बच्चों से जुड़े इस प्रयास पर अपनी बात रखते हुए बाल आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने कहा बाल पंचायतें बाल अधिकारों को संरक्षित करने के लिए डिजिटल बाल मेला का बेहतरीन नवाचार है। ऐसे प्रयासों को स्थानीय सरपंचों को बढ़ावा देना चाहिए। इस बाल पंचायत में बच्चों ने वोट डालना सीखा। अपने पसंदीदा बाल सरपंच उम्मीदवार के लिए वोट किया। इस पूरी प्रक्रिया से बच्चों ने बैलेट बॉक्स प्रक्रिया से अपना सरपंच चुना। जल्द ही इस "बाल पंचायत" के वोट आम जनों में जारी कर दिए जाएंगे। गौरतलब है की डिजिटल बाल मेला और यूनिसेफ के अभियान "मैं भी बाल सरपंच" के जरिए ग्राम पंचायत को "बाल मित्र" बनाए जाने का प्रयास किया जा रहा है, जिसके तहत ग्राम पंचायतों में बच्चों की भूमिका सुनिश्चित की जा सके। इस अभियान की शुरुआत भी पंचायती राज व्यवस्था लागू करने वाले पहले जिले नागौर से गांधी जयंती के दिन की गई थी।

पाली के रोहट में आयोजित डिजिटल बाल मेला और बाल पंचायत में बैठे स्टूडेंट।
पाली के रोहट में आयोजित डिजिटल बाल मेला और बाल पंचायत में बैठे स्टूडेंट।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह संभाग में आयोजित इस बाल पंचायत में महात्मा गांधी विद्यालय की प्रिंसिपल सीमा देवी ने अपने विद्यालय में हुये इस नवाचार को सभी बच्चों तक पहुंचाने का वादा किया। डिजिटल बाल मेला की जान्हवी शर्मा ने बताया अगली पंचायत का आयोजन उदयपुर संभाग में किया जाएगा।

बच्चों ने इस अभियान के तहत भ्रूण हत्या, पानी की समस्या, बालिका शिक्षा जैसे मुद्दों पर आवाज मुखर की। इस दौरान उप सरपंच गुलाब देवी, ग्राम विकास अधिकारी दिलीपसिंह राठौड़, समाजसेवी सुनील प्रजापत, अशोक जैन, कनिष्ठ सहायक राजाराम शर्मा, हरीदास वैष्णव आलम खान, कूकाराम सरगरा आदि मौजूद रहे।