10 साल बाद जवाई नहर की सफाई:बरसाती पानी सिटी टैंक तक पहुंचेगा, करीब 15 लाख का होगा खर्च

पालीएक महीने पहले
जिला कलेक्टर नमित मेहता ने नगर परिषद आयुक्त के साथ मंगलवार दोपहर को नहर के सफाई कार्य का निरीक्षण किया। - Dainik Bhaskar
जिला कलेक्टर नमित मेहता ने नगर परिषद आयुक्त के साथ मंगलवार दोपहर को नहर के सफाई कार्य का निरीक्षण किया।

पाली शहर से होकर गुजर रही जवाई नहर की सालों बाद साफ-सफाई बड़े लेवल पर की जा रही हैं। इसके जरिए बरसाती पानी सिटी टैंक तक पहुंचाया जा सकेगा। गंदगी साफ होने से इस बार नहर में ज्यादा मच्छर भी ज्यादा नहीं पनपेंगे।

पाली के आदर्श नगर क्षेत्र में नहर की मंगलवार को जेसीबी से होती सफाई।
पाली के आदर्श नगर क्षेत्र में नहर की मंगलवार को जेसीबी से होती सफाई।

दरअसल, पिछले कई सालों से ऐसा होता आया हैं कि नहर की साफ-सफाई के लिए जलदाय विभाग, सिंचाई विभाग और नगर परिषद गेंद एक-दूसरे के पाले में डालने में लगे रहते थे। ऐसे में बढ़े स्तर पर नहर की सफाई पिछले करीब 10 सालों में नहीं हुई। ऐसे में शहर के इन्द्रा कॉलोनी, आदर्श नगर क्षेत्र से गुजर रही यह खुली नजर धीरे-धीरे नाला बनने लगी। लोग अपने घरों का गंदा कचरा इसमें डालने लग। जिससे नहर में दो से तीन फीट तक कचरा जमा हो गया। झाड़ियां उग गई।

नहर की ऐसी स्थिति देख कलेक्टर नमित मेहता ने नगर परिषद आयुक्त को मानसून आने से पहले नहर की सफाई करवाने के निर्देश दिए। जिस पर उन्होंने प्रथम चरण में इन्द्रा कॉलोनी से लेकर लाखोटिया तालाब तक नहर की सफाई कार्य शुरू करवाया। वर्तमान में डेढ़ किलोमीटर तक नहर की साफ-सफाई हुई हैं। प्रथम चरण में करीब साढ़े चार किलोमीटर तक नहर की सफाई करवाई जा रही हैं। आयुक्त रॉय ने बताय कि प्रथम चरण में नहर की सफाई करवाने पर करीब 15 लाख रुपए का बजट खर्च होगा। द्वितीय चरण में लाखोटिया तालाब से लेकर जोधपुर रोड तक नहर की सफाई करवाएंगे।

कलेक्टर ने किया निरीक्षण
कलेक्टर नमित मेहता, आयुक्त बृजेश रॉय ने मंगलवार दोपहर नहर की साफ-सफाई कार्य का निरीक्षण किया। इस दौरान कलेक्टर ने ठेकेदार आनंद कवाड़ को निर्देश दिए कि जहां कही भी करंट की स्थिति हो वहां लाइट बंद करवाने के बाद ही साफ-सफाई करवाए जिससे कि किसी तरह का हादसा न हो। उन्होंने हिदायत दी कि मजदूरों को भी हाथ-पांव में पहनने के लिए जूते-मौजे दे। जिससे कि सफाई के दौरान झाड़ियों से सांप या अन्य कोई जहरीला जीव काटने से किसी तरह का हादसा न हो। नहर से निकाले गए कचरे को भी उन्होंने तुरंत सड़क किनारे से हटाने के निर्देश दिए।