पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आक्रोश:सीएमएचओ ने बर अस्पताल में हनुमान मंदिर पर ताला लगाया, ग्रामीणों ने खोलकर पूजा-अर्चना की

बर मारवाड़\रायपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • डॉ. मिर्धा के खिलाफ रायपुर थाने में धार्मिक भावनाएं आहत करने का वकील ने दर्ज कराया मुकदमा, ग्रामीणों ने किया धरना-प्रदर्शन
  • मंदिर परिसर के बाहर ही बैठे रहे ग्रामीण, सुंदरकांड और भजन किए

बर गांव में राजकीय अस्पताल परिसर में स्थित हनुमान मंदिर पर पाली के सीएमएचओ डाॅ. आरपी मिर्धा द्वारा ताला लगाकर मंदिर बंद करने की घटना के बाद शनिवार सुबह ग्रामीण भड़क गए। नाराज ग्रामीणों ने सीएमएचओ के खिलाफ मंदिर के बाहर धरना प्रदर्शन किया।

बर ग्राम के 36 काैम के लोगों ने जैतारण विधायक अविनाश गहलोत के नेतृत्व में सीएमएचओ के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए दिनभर विराेध प्रदर्शन किया। ग्रामीण सीएमएचओ काे माैके पर बुलाकर मंदिर के ताले उनके हाथ से खुलवाने की मांग पर अड़ गए।

मगर सीएमएचओ ने आने से इनकार कर दिया, जिससे ग्रामीण और भड़क गए। अपराह्न बाद जैतारण विधायक अविनाश गहलोत ने चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा काे पूरा घटनाक्रम बताया, जिन्होंने मामले में विभागीय कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।

इसके बाद ग्रामीणों ने धरना समाप्त किया और मंदिर का ताला खोलकर पूजा अर्चना की। इस मामले काे लेकर बर निवासी एडवोकेट मुर्तजा कुरैशी की ओर से सीएमएचओ डाॅ. मिर्धा के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने के आराेप में रायपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया है।

हठधर्मिता : शुक्रवार को सीएमएचओ ने निरीक्षण के बाद बिना अनुमति मंदिर का ताला नहीं खाेलने के दिए निर्देश, ग्रामीणों में गहराया रोष

गौरतलब है कि शुक्रवार को सीएमएचओ डॉ. मिर्धा ने बर स्थित अस्पताल का निरीक्षण किया था। इस दौरान अस्पताल परिसर में बने हनुमान मंदिर पर ताला लगा दिया एवं उनकी अनुमति के बगैर ताला नहीं खोलने के निर्देश जारी कर दिए।

शनिवार सुबह ग्रामीणों को मामले की जानकारी मिली तो वे अस्पताल परिसर में एकत्रति होने लगे। इसके बाद धरना देकर प्रदर्शन किया। रायपुर तहसीलदार नरेंद्र सिंह पंवार, थाना प्रभारी जसवंतसिंह राजपुरोहित पुलिस जाब्ते के साथ मौके पर पहुंचे, लेकिन ग्रामीण सीएमएचओ के हाथ से ही ताला खुलवाने की मांग पर अड़ गए।

इस दौरान प्रशासन ने एक बारगी मंदिर के ताले खाेलने की काेशिश की ताे ग्रामीणों ने काले झंडे दिखाकर विरोध किया गया। इस दौरान तहसीलदार नरेंद्र सिंह पवार, रायपुर ब्लॉक चिकित्सा प्रभारी सुरेश यादव, रायपुर थानाप्रभारी जसवंत सिंह राजपुरोहित, बर चौकी प्रभारी बाबू सिंह देवड़ा, पटवारी चंद्रशेखर, भवानी सिंह सुभाष, रणजीत सहित पुलिसकर्मी एवं प्रशासन मौजूद रहा।

धरना प्रदर्शन के दौरान शिवसेना जिलाध्यक्ष रतनलाल बागड़ी, समाजसेवी कानसिंह इंदा, कांग्रेस नेता धर्मेश रिणवा, महेंद्र सैनी, एडवोकेट मुर्तजा कुरेशी, प्रभुराम चौहान, मनोहर गहलोत, संदीप मेवाड़ा, अनुराग रिणवा, पारस गहलोत सहित ग्रामीण एवं बजरंग दल के कार्यकर्ता मौजूद रहे।

विवादों से नाता : कोट बालियान में कंपाउंडर पर कार्रवाई के दौरान लगे भ्रष्टाचार के आरोप, हाईवे पर होटल सीज की कार्रवाई पर भी उठे सवाल

पाली में सीएमएचओ डाॅ. रामपाल मिर्धा कुर्सी संभालने के बाद से विवादित रहे हैं। बाली के निकट काेट बालियान में एक कंपाउडर पर कार्रवाई के दाैरान सीएमएचओ पर भ्रष्टाचार के आराेप लगे, जिसे लेकर मामला भी दर्ज है।

पाली-जाेधपुर हाईवे पर गाजनगढ़ टाेल प्लाजा पर कार्रवाई काे लेकर भी सीएमएचओ पर आराेप लगे थे। सीएमएचओ पाली द्वारा शुक्रवार देर शाम बर हाईवे स्थित एक होटल को सीज किए जाने का मामला भी विवादों के घेरे में है।

सीएमएचओ द्वारा होटल सीज करने का कारण फूड लाइसेंस की अवधि समाप्त होना बताया गया, लेकिन फूड लाइसेंस 2020 तक के लिए वैध है। सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि जिस होटल को ताला लगाकर सील किया गया है। उस होटल मालिक को सीज किए जाने की कार्यवाही से संबंधित किसी तरह का कोई दस्तावेज अथवा नोटिस नहीं दिया गया है।

बंगाली डॉक्टर नजर ही नहीं आए और होटल में पड़ी गंदगी दिखाई दे गई : इस होटल का निरीक्षण करने से पूर्व पाली सीएमएचओ डाॅ. रामपाल मिर्धा द्वारा क्षेत्र के कई गांवाें का दाैरा किया गया, लेकिन इस दौरान क्षेत्र के लगभग हर गांव में क्लीनिक संचालित कर रहे बंगाली चिकित्सकों एवं अवैध मेडिकल स्टोर संचालकों पर सीएमएचओ की नजर नहीं पड़ी।

वहीं, हाईवे स्थित इस होटल के अंदर पड़ी गंदगी का हवाला देकर होटल को सीज कर दिया गया।

होटल संचालक ने लगाए गंभीर आरोप
सीएमएचओ द्वारा होटल पहुंचकर लाइसेंस सर्टिफिकेट मांगा गया। लाइसेंस सर्टिफिकेट वैलिड नहीं होने की बात कही गई, लेकिन लाइसेंस सर्टिफिकेट वैलिड होने के बावजूद भी होटल सीज कर दी गई। होटल पर की गई कार्रवाई का न तो मुझे किसी भी प्रकार का नोटिस दिया गया अाैर न ही मुझे किसी भी प्रकार का कोई दस्तावेज दिया गया।
-श्यामलाल, होटल संचालक

खबरें और भी हैं...