चायवाले और कांस्टेबल के बीच कहासुनी:चाय बेचने वाले की शिकायत- घर चलाऊं या कांस्टेबल को बंधी दूं

पाली11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मारवाड़ जंक्शन में मंगलवार रात काे रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने वाले युवक तथा जीअारपी कांस्टेबल के बीच कहासुनी हाे गई। दाेनाें अापस में उलझ पड़े। अाराेप है कि यह विवाद स्टेशन पर चाय बेचने के बदले में मासिक बंधी के रूप में 500 रुपए मांगने पर हुअा था। पुलिस का कहना है कि चाय बेचने वाले युवक ने कांस्टेबल के साथ मारपीट का प्रयास किया। वहीं युवक का अाराेप है िक उसे बार-बार मासिक बंधी देने के लिए परेशान किया जा रहा है। उसने रेलवे के अधिकारियाें के समक्ष अपनी व्यथा लिखकर भेजी है। इसमें कहा है कि वह चाय बेचकर अपने परिवारजनाें का पेट पाले या बंधी के रूप में पैसा चुकाए। कांस्टेबल अाए दिन उसके साथ मारपीट करने के साथ ही बेवजह परेशान करता है। जीअारपी ने युवक के खिलाफ राजकार्य में बाधा पहुंचाने का मामला दर्ज किया है।

पुलिस की सफाई-शराब के नशे में था, कांस्टेबल से मारपीट का भी प्रयास किया मारवाड़ जंक्शन के काजीपुरा निवासी मुकेश कुमार पुत्र रमेश कुमार सरगरा ने जीआरपी पुलिस अधीक्षक अजमेर को एक पत्र भेजकर खुद के साथ हुई घटना के मामले में निष्पक्ष जांच की मांग की है। पत्र में युवक मुकेश कुमार ने बताया कि वह रेलवे स्टेशन पर चाय बेच कर परिवार का गुजारा करता है। मंगलवार रात लगभग 8 बजे जीआरपी कांस्टेबल जोगेंद्र कुमार प्लेटफार्म नंबर-3 पर आकर उससे मासिक बंधी के 500 रुपए मांगेे। पत्र में अाराेप लगाया कि स्टेशन पर 100 रुपए प्रति महीने के हिसाब से प्रत्येक चायवाला पुलिस को बंधी दे रहा है। उससे 500 मांगने पर उसने मना कर दिया। इसके बाद कांस्टेबल ने उसके साथ मारपीट करते हुए गाली-गलौज की। युवक ने जीआरपी एसपी के साथ में रेल मंत्री, डीआरएम अजमेर, मुख्यमंत्री को भी पत्र भेजकर इस मामले में निष्पक्ष जांच की मांग की। जीआरपी के कार्यवाहक थाना प्रभारी झालाराम ने बताया कि उक्त घटना के समय युवक मुकेश शराब के नशे में था। उसे टोकने पर कांस्टेबल के साथ मारपीट करने का प्रयास किया। इस पर उसके खिलाफ राजकार्य में बाधा का मुकदमा दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...