पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

राजनीति:कांग्रेस से खुद का घर ही नहीं संभल रहा : माथुर

पाली14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओमप्रकाश माथुर ने राज्य सरकार पर साधा जमकर निशाना

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर ने प्रदेश में चल रहे सियासी घमासान के बीच कांग्रेस पर जमकर हमला बाेला है। उन्हाेंने कहा कि कांग्रेस से अपना खुद का घर ताे संभल ही नहीं रहा और मुख्यमंत्री अशाेक गहलाेत भाजपा पर झूठे आराेप लगा रही है।

उन्हाेंने कहा कि राजनीतिक व्यक्ति अपनी पार्टी पर ही कैसे आरोप लगाएं, जो लोग बाहर गए हैं वह तो कांग्रेस के ही लोग हैं, लेकिन कांग्रेस नेताअाें काे सुबह उठते ही पीएम मोदी और अमित शाह का नाम नहीं लेते, तब तक उन्हें चैन नहीं आता। वे शनिवार काे बाली में भास्कर से विशेष बातचीत कर रहे थे।

माथुर ने कहा, प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है, उनकी पुलिस और सुरक्षा बल भी है। इसके बाद भी अपने विधायकाें काे जैसलमेर में ले जाकर बाड़ेबंदी की जरूरत क्या है। उन्हाेंने आराेप लगाया कि कभी विधायकों को बकरा ताे कभी भेड़ बोलते हैं। अगर सरकार के पास बहुमत का संख्याबल है ताे इतना डरने की जरूरत क्या है? माथुर ने एक सवाल के जवाब में कहा कि हम तो मौका देख रहे हैं कि वह क्या करते हैं।

वर्नर हाउस में कांग्रेस के धरना-प्रदर्शन काे गलत बताया, कहा- कोर्ट सही न्याय करेगा
माथुर ने गवर्नर हाउस में कांग्रेस के धरना-प्रदर्शन काे गलत बताया। उनका कहना है कि राज्यपाल के सामने विधायकों की परेड कराने के साथ ही हस्ताक्षर कराते। एक-एक विधायक के बयान करवाते, लेकिन राजभवन में नारेबाजी करवाना ठीक नहीं है। 14 अगस्त से विधानसभा सत्र को लेकर हमारा विधायक दल पूरी तैयारी में है। बहुत सारे विषय हैं। बहुत जल्दी विधायक दल की बैठक भी होनी है।

उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां सहित प्रदेश के सभी बड़े नेता लगातार संपर्क में हैं। राज्य सरकार को टिड्डी, कोरोना और लॉ एंड ऑर्डर की स्थितियों पर घेरा जाएगा। बसपा के मुद्दे पर बोलते हुए माथुर ने कहा कि पहले भी बसपा के सहारे थे, अब भी बसपा के सहारे से हैं। कोर्ट के नोटिस का जवाब 11 अगस्त तक देना है, कोर्ट सही न्याय करेगा ऐसा भरोसा है।

हमारे दल का कोई भी व्यक्ति कहीं पर भी इसमें इनवॉल्व नहीं है
भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा कि भैरोंसिंह शेखावत के धरना देने के बारे में बयान देना बिल्कुल गलत बात है। उस वक्त हम सिर्फ 5 लोग गए थे। उससे पहले हमारे बहुमत की परेड हम राज्यपाल के सामने कर चुके थे, जो 5 लोग गए थे। उनमें मैं खुद भी मौजूद था। पांच-छह घंटे की बहसबाजी करने के बाद भैरोंसिंह शेखावत थोड़ा थक गए थे और लाॅन में बैठ गए थे, जो धरना नहीं था। पूरी जनता बाहर की तरफ साथ थी।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - धर्म-कर्म और आध्यामिकता के प्रति आपका विश्वास आपके अंदर शांति और सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर रहा है। आप जीवन को सकारात्मक नजरिए से समझने की कोशिश कर रहे हैं। जो कि एक बेहतरीन उपलब्धि है। ने...

और पढ़ें