संभागीय आयुक्त पहुंचे रास:पीड़ित परिवारों के घावों पर लगाया सांत्वना का मरहम, अधिकारियों काे कहा तुरंत तालाब के गड्डे भरवाओ ताकि फिर किसी परिवार का चिराग न बुझे

रास (पाली)एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रास गांव में पीड़ित परिवार को सांत्वना देते संभागीय आयुक्त शर्मा। - Dainik Bhaskar
रास गांव में पीड़ित परिवार को सांत्वना देते संभागीय आयुक्त शर्मा।

संभागीय आयुक्त डॉ राजेश शर्मा गुरुवार सुबह जिले के रास गांव पहुंचे तथाा पीड़ित परिजनों से मिलकर हादसे को सांत्वना देते हुए दुख व्यक्त किया। उन्होंने आश्वासन दिया कि सरकार की ओर से नियमानुसार उन्हें आर्थिक सहायता दिलवाई जाएगी। उसके बाद वे तालाब में घटना स्थल पर पहुंचे। जहां मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद पाली को तुरंत तालाब में हो रखे बड़े-बड़े गड्डों को मिट्टी से भरवाने के निर्देश दिए। जिससे की बरसाती पानी भरने से फिर से इनमें डूबकर किसी घर का चिराग न बुझे। उन्होंने तालाब पर साइन बोर्ड लगाने, तारबंदी करवाने के भी निर्देश दिए। इसके साथ ही जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री सहायता कोष से पीड़ित परिजनों को सहायता दिलवाने के निर्देश दिए। संभागीय आयुक्त ने ग्रामीणों से बरसात के मौसम में बच्चों को अकेले नदी-नालों की तरफ जाने से रोकने की अपील की। इस मौके उपखंड अधिकारी डॉ भास्कर विश्नोई, तहसीलदार सुरेश कुमार, रास थानाधिकारी सुरेंद्र कुमार सहित कई जने मौजूद रहे।

तालाब में जिस गड्डे में बालक डूबे वहां का निरीक्षण करते संभागीय आयुक्त एवं मौके पर मौजूद ग्रामीण।
तालाब में जिस गड्डे में बालक डूबे वहां का निरीक्षण करते संभागीय आयुक्त एवं मौके पर मौजूद ग्रामीण।

ज्ञात रहे कि बुधवार दोपहर को रास के सेवरिया दरवाजा रास निवासी 10 वर्षीय आसिफ पुत्र सलाम तेली, रास निवासी 16 वर्षीय अजान पुत्र फरमान खान, सांवरिया दरवाजा रास निवासी 10 वर्षीय मुकेश पुत्र भंवरूराम मेघवाल, सेवरिया दरवाजा रास निवासी 8 वर्षीय अजय पुत्र भंवरूराम मेघवाल गांव के तालाब में हो रखे बड़े गड्डे में भरे बरसाती पानी में नहाने उतरे थे। जहां डूबने से चारों की मौत हो गई थी।

संभागीय आयुक्त के निर्देश के बाद तालाब में जेसीबी से गड्‌डे भरवाते हुए अधिकारी। जिससे तालाबा को समतल किया जा सके।
संभागीय आयुक्त के निर्देश के बाद तालाब में जेसीबी से गड्‌डे भरवाते हुए अधिकारी। जिससे तालाबा को समतल किया जा सके।

संभागीय आयुक्त के निर्देश पर तालाब के गड्डे भरने का काम शुरू
संभागीय आयुक्त के जाने के कुछ समय बाद ही स्थानीय प्रशासन ने जेसीबी की सहायता से तालाब में जगह-जगह हो रखे गड्डों को मिट्‌टी से भरने का काम शुरू कर दिया। जिस गड्डे में बच्चे डूबे थे उसे भी भरा जाएगा। जिससे की पूरे तालाब को समतल किया जा सके।

भास्कर अपील – मानसून में डूबने से ज्यादा होती हैं, परिजन रखें बच्चों का विशेष ख्याल
मानसून के दौरान अच्छी बरसात होने से नदी-नालों, गड्डों में बरसाती पानी भर जाता हैं। सुहाना मौसम होने के कारण बच्चे और बड़े ही भी नहाने के लिए उनमें उतर जाते हैं। तो कई जने झरनों का आन्नद लेने चले जाते हैं। वहां नहाने के दौरान कईयों के साथ हादसे हो जाते हैं। इसलिए परिजनों को चाहिए कि विशेषकर अपने बच्चों का इस मौसम में ध्यान रखें। उन्हें अकेले नदी, तालाब, नालों में नहाने के नहीं जाने दे। जिससे भास्कर अपील अपील करता हैं कि परिजन विशेषकर मानसून के मौसम में बच्चों का ध्यान रखें। उन्हें नदी, नालों की तरफ अकेला न जाने दे। तथा खुद भी बहते हुए पानी में उतरने से बचे। कई बार ऐसा होता हैं कि रपट से बहते पानी से बाइक आदि वाहन निकालने के दौरान भी पानी तेज हो जाता है जिससे हादसे हो जाते हैं।

खबरें और भी हैं...