पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डमी परीक्षार्थी को पकड़ा:खुद बेरोजगार लेकिन रिश्ते के भाई को सब इंस्पेक्टर बनाने के लिए डमी कैंडिडेट बन बैठा परीक्षा देने, जांच में पकड़ा गया

पालीएक दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डमी परिक्षार्थी लोकेश। - Dainik Bhaskar
डमी परिक्षार्थी लोकेश।

सब इंस्पेक्टर परीक्षा में नकल गिरोह पकड़ने जाने के बाद अब भाई की जगह डमी परिक्षार्थी बनकर आए आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मामले में मुख्य परिक्षार्थी जो आगरा में है, उसे पुलिस ने बुलाया है।

सीओ सिटी निशांत भारद्वाज ने बताया कि सब इंस्पेक्टर की लिखित परीक्षा बुधवार को आयोजित की गई। बांगड़ स्कूल में चल रही परीक्षा की जांच करने पहुंचे तो शक होने पर एक परिक्षार्थी से पूछताछ की तो सामने आया कि वह अपने रिश्ते के भाई की जगह डमी परिक्षार्थी बन परीक्षा दे रहा है। जिस पर कानेका (बान्जा ) मथुरा निवासी 28 वर्षीय लोकेश पुत्र नवलसिंह को हिरासत में लिया। तथा मूल परिक्षार्थी नंगला झब्बा, किरावली, आगरा निवासी 25 वर्षीय आकाश पुत्र चन्द्रपाल को कॉल कर पाली बुलाया हैं। पुलिस ने केन्द्र अधीक्षक की रिपोर्ट पर मामला दर्जकर जांच शुरू की।

रिश्ते में मामा-भुआ के भाई
डमी परिक्षार्थी लोकेश मूल परिक्षार्थी आकाश के मामा का लड़का हैं। अभी तक की पूछताछ में उसने बताया कि वह भी ग्रेजुएट हैं और उसके भुआ का लड़का आकाश भी ग्रेजुएट हैं। रुपयों के लिए उसकी जगह परीक्षा देने से लोकेश ने इंकार किया है। आकाश के पाली आने पर ही मामले में खुलासा हो सकेगा। आकाश परीक्षा देने क्यों नहीं आया और उसकी जगह लोकेश परीक्षा देने क्यों आया।

गत दिनों नकल करने के मामले में दो को पकड़ा था

उप निरीक्षक पुलिस की सीधी भर्ती लिखित परीक्षा में मोबाइल के जरिए नकल करने के मामले में सोमवार को पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया था। जिनके तार बीकानेर नकल गिरोह से जुड़े थे। मामले में बीकानेर पुलिस ने भी कार्रवाई कर इस गिरोह से जुड़े लोगों को गिरफ्तार किया था। पाली पुलिस ने केन्द्राधीक्षक की रिपोर्ट पर पुलिस ने मामला दर्ज कर रामनगर स्थित भारतीय विद्या मंदिर उच्च माध्यमिक विद्यालय में परीक्षा देने आए अभ्यर्थी बीकानेर के मुरलीधर व्यास कॉलोनी नया शहर निवासी 26 वर्षीय राजेश बेनिवाल पुत्र बाबूलाल बेनिवाल व नकल करवाने वाले बीकानेर के मुडायत बज्जू निवासी 26 वर्षीय नरेन्द्र खिचड़ पुत्र बंशीलाल विश्नोई को गिरफ्तार किया था।

मूल परिक्षार्थी आकाश जो परीक्षा देने नहीं पहुंचा। उसकी जगह उसके मामा का लड़का परीक्षा देने बैठा। जो स्वयं बेरोजगार हैं।
मूल परिक्षार्थी आकाश जो परीक्षा देने नहीं पहुंचा। उसकी जगह उसके मामा का लड़का परीक्षा देने बैठा। जो स्वयं बेरोजगार हैं।

ऐसे आया पकड़ में
आरोपी फर्जी आधार कार्ड बनाकर उस परीक्षा केन्द्र में प्रवेश कर गया लेकिन हस्ताक्षर करते समय आकाश की अमित नाम से हस्ताक्षर कर बैठा। जब इससे पूछा कि अमित कौन हैं तो घबरा गया। बाद में सामने आया कि इसका खुद का नाम लोकेश हैं और मूल परिक्षार्थी इसके भुआ का लड़का आकाश हैं। जिसकी जगह यह परीक्षा देने बैठा। जबिक खुद बेरोजगार हैं।

खबरें और भी हैं...