पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

हादसा:कपड़ा फैक्ट्री में 2000 किलो के बेबी बॉयलर में तकनीकी खराबी से विस्फोट, तीन श्रमिक झुलसे

पाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 500 किमी प्रतिघंटे की स्पीड से 20 फीट ऊपर उछलकर फटा स्टीम जनरेटर
  • कृष्ण जन्माष्टमी पर फैक्ट्री में कामकाज बंद होने से मजदूरों की संख्या कम थी, दीवारें व अडान क्षतिग्रस्त

शहर के पुनायता औद्योगिक क्षेत्र की सोमनाथ टैक्सटाइल फैक्ट्री में बुधवार सुबह करीब 11 बजे कपड़े को चमकदार बनाने व रंग को पकाने में काम आने वाला स्टीम जनरेटर (छोटा बॉयलर) में तकनीकी खराबी के कारण तेज धमाके से विस्फोट हो गया। इससे बॉयलर के परखच्चे उड़ गए।

फैक्ट्री का अड़ान तथा दीवारें क्षतिग्रस्त होने से आसपास की फैक्ट्रियों में भी नुकसान हुआ है। बाॅयलर की चपेट में आने से दो बाइक चकनाचूर हो गई। वहां मौजूद श्रमिक खूमाराम पुत्र भोमाराम, अशोक पुत्र उमाराम तथा मोतीराम पुत्र कंवलाराम झुलस गए।

घटना से पूरा इलाका दहल गया। साथ ही एक से डेढ़ किमी तक जमीन में भी कंपन महसूस किया गया। बॉयलर की क्षमता आधा टन होने के कारण ही इसका वजन करीब 2000 किलो तक बताया जा रहा है। गनीमत रही कि श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का गांवशाही अगता होने के कारण फैक्ट्रियों में कामकाज बंद था।

इसके चलते श्रमिक भी नहीं पहुंचे थे, अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। घटना की जानकारी मिलते ही नगरपरिषद से दमकल वाहन तथा एंबुलेंस पहुंच गई। साथ ही सदर थाना प्रभारी भंवरलाल पटेल जाब्ते के साथ व प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंचे और तीनों श्रमिकों को तत्काल बांगड़ अस्पताल में भर्ती कराया। उनकी हालत ठीक बताई जा रही है। पुनायता बाइपास स्थित सोमनाथ टैक्सटाइल फैक्ट्री भंवरलाल पंवार की है।

तकनीकी एक्सपर्ट के अनुसार हादसे के यह है 4 कारण

1. केयर का तापमान 80-90 डिग्री ही होना चाहिए। शायद 120 डिग्री तक पहुंच गया। 2. सेफ्टी सिस्टम दुरुस्त नहीं था। एयर पाइप चॉक होने से स्टीम ज्यादा बन गई। 3. बॉयलर से स्टीम छोड़ने के सिस्टम में खराबी से स्टीम अधिक मात्रा मेंं पहुंची। 4. 18 से 24 घंटे के बीच सिस्टम की जांच होनी चाहिए, मगर नहीं की गई।

काम बॉयलर जैसा, दिखता भी वैसा ही है, लेकिन नाम स्टीम जनरेटर
स्टीम जनरेटर दिखने में तो बॉयलर जैसा ही है। उसका काम भी बॉयलर की तरह ही स्टीम बनाकर इससे कपड़े की प्रोसेसिंग में काम में लेने के लिए किया जाता है। साथ ही कपड़े को पकाने के साथ फिनिशिंग करना ही है। उक्त हादसा होने के बाद फैक्ट्री एवं बॉयलर्स निरीक्षक धीरज पंवार शाम को निरीक्षण करने मौके पर पहुंचे।

शहर की फैक्ट्रियों में 100 से अधिक केयर-थर्मापैक, अधिकांश पुराने ही
फैक्ट्रियों में तैयार होने वाले कपड़े को चमकदार बनाने तथा रंग को पकाने के लिए केयर-थर्माेपैक व स्टीम जनरेटर मशीनें लगी हुई हैं। ऐसे करीब 100 से अधिक प्रोसेस हाउस हैं,जहां पर यह लगे हैं। इन मशीनों की मॉनिटरिंग की कोई व्यवस्था नहीं है। इनको हैंडल करने वाला स्टाफ भी नियमानुसार तकनीकी रूप से दक्ष होना चाहिए, मगर अकुशल कामगार ही संचालित कर रहे हैं।

  • फैक्ट्री के छोटे बॉयलर में स्टीम ज्यादा बनने के कारण विस्फोट हो गया। इससे तीन श्रमिक झुलसने के साथ ही फैक्ट्री को भी नुकसान हुआ है। इस मामले की जांच की जा रही है। - भंवरलाल पटेल, सदर थाना प्रभारी
  • इसका माैका देखने के लिए पहुंचे हैं। यह बाॅयलर एक्ट में अाता है या नहीं, इसका भी पता करवा रहे हैं। अगर बाॅयलर एक्ट में अाया ताे नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। हादसा गलत हुआ है। - धीरज पंवार, निरीक्षक, बाॅयलर्स

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें