पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्रवाई का बदला:नदी बचाने में जुटे युवक पर बजरी माफिया का हमला, पांव ताेड़ा, चेहरे पर डाली शराब

पाली18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेलावास में हमले में घायल व्यक्ति का बयान लेती पुलिस। - Dainik Bhaskar
मेलावास में हमले में घायल व्यक्ति का बयान लेती पुलिस।
  • मेलावास में खनिज विभाग की कार्रवाई, फिर भी अपराधी बेखौफ

मेलावास गांव में पर्यावरण संरक्षण काे लेकर चर्चित हुए आईआरएस अधिकारी घनश्याम साेनी ने साेजत राेड इलाके की नदियाें काे बचाने का अभियान छेड़ रखा है। नदियाें से दिन-रात अबाध रूप से हाे रहे बजरी के अवैध खनन काे लेकर खनिज विभाग भी पिछले एक सप्ताह से राेज ताबड़ताेड़ कार्रवाई कर बजरी माफिया पर लगाम कस रहा है। इससे खफा हाेकर अभियान से जुड़े एक युवक पर शनिवार देर रात कुछ लाेगाें ने लाठियाें व धारदार हथियाराें से जानलेवा हमला कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया।

आराेपियाें ने दुर्घटना का रूप देने के लिए पहले उसे शराब पिलाने का प्रयास किया। बाद में उसके चेहरे पर शराब की बाेतल उड़ेलकर भाग छूटे। घायल काे उपचार के लिए हायर सेंटर रेफर किया है। उसका पैर फैक्चर हाेने के साथ शरीर के कई हिस्साें में गंभीर चाेटें आई हैं। पुलिस ने घटना के बाद आराेपियाें काे पकड़ने के लिए कई ठिकानों पर दबिश दी, मगर रविवार रात तक उनके बारे में काेई सुराग नहीं मिल पाया है।

घात लगाकर किया हमला, हादसे का रूप देने के लिए युवक को शराब पिलाने का प्रयास
बजरी के अवैध कारोबार से जुड़े खनन माफियाओं ने गांव के ही युवक श्यामलाल सैन पर शिकायत का संदेह करते हुए जानलेवा हमला कर दिया। श्यामलाल गुड़ा गिरी मार्ग से मेलावास की तरफ आ रहे थे। रास्ते में घात लगाकर बैठे मेलावास निवासी महेंद्रसिंह पुत्र श्यामसिंह, भैरूसिंह पुत्र श्यामसिंह, चंदनसिंह पुत्र गुमान सिंह, शक्ति सिंह पुत्र इंद्रसिंह सहित तीन-चार अन्य ने लोहे के सरिया, पाइप व राॅड से हमला बोल दिया।

हमले में श्यामलाल के शरीर पर गंभीर चोटें आई व पैर फ्रैक्चर हो गया। आरोप है कि मारपीट करने के बाद वारदात को दुर्घटना का रूप देने के लिए शराब पिलाने का प्रयास भी किया। इसी दाैरान वहां से किसी वाहन के आने की आवाज सुनकर हमलावर भाग छूटे। ग्रामीणों ने घायल को सोजत अस्पताल पहुंचाया। सूचना पर सोजत रोड पुलिस ने पर्चा बयान लिया। पुलिस का कहना है कि हमलावरों की तलाश की जा रही है।

नदियाें के आसपास रात में भी शुरू कर दी थी गश्त : आईआरएस घनश्याम साेनी की अगुवाई में पहले पूरे गांव काे पेड़ाें से हरा-भरा करने के बाद नदी बचाओ अभियान चलाया जा रहा है। पर्यावरण प्रेमियों की शिकायत पर गत दिनों खनिज विभाग, पुलिस व प्रशासन ने बजरी के अवैध खनन को रोकने के लिए रात्रिकालीन गश्त के साथ ही नदियाें समेत आसपास के प्राकृ़तिक जलस्त्राेताें पर निगरानी बढ़ा दी थी। साथ ही बजरी खनन करते हुए कई वाहनों काे भी पकड़ा था। खनिज विभाग की लगातार गश्त व सख्ती से खनन माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है।

खबरें और भी हैं...