पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डिस्कॉमकर्मी की करंट से मौत:हे राम, ढाई घंटे तक ट्रॉसफार्मर पर लटका रहा शव

पाली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सांचोर। ट्रांसफार्मर पर लटकता महेंद्र का शव। - Dainik Bhaskar
सांचोर। ट्रांसफार्मर पर लटकता महेंद्र का शव।
  • सांचोर क्षेत्र में जीएसएस पर काम करते समय डिस्कॉमकर्मी की करंट से मौत
  • ग्रामीणों ने मुआवजे व दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की

सांचोर। कोरोना के चलते इन दिनों सभी घरों में हैं। गर्मी के इन दिनों में लाइट जाने से लोगों को परेशान न होना पड़े इसलिए कोरोना वॉरियर्स के रूप में डिस्कॉमकर्मी कड़ी धूप में काम कर रहे हैं। ताकि हम परेशान न हो। लेकिन रविवार को जालोर जिले के सांचौर क्षेत्र के डेडवा सरहद में पुरोहित की ढाणी के निकट डिस्कॉम के 35 केवी जीएसएस पर कार्य करते समय डिस्कॉम में कार्यरत एक संविदाकर्मी की करंट से मौत हो गई। हैरान करने वाली बात यह थी कि हादसे के करीब ढाई घंटे बाद भी संविदाकर्मी डेडवा निवासी महेन्द्रसिंह (24) पुत्र सुखसिंह राजपुरोहित का शव ट्रांसफॉर्मर पर लटका रहा। इसको लेकर ग्रामीणों ने काफी रोष जताया।

ऐसे हुआ हादसा

रविवार दोपहर करीब 12:30 बजे डेडवा निवासी महेन्द्रसिंह जो डिस्कॉम में संविदा पर कार्यरत है। जीएसएस पर किसी कार्य के चलते चढ़ा। इस दौरान करंट की चपेट में आ गया। जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर एकत्रित हो गए। डिस्कॉम के अधिकारियों तक भी हादसे की सूचना पहुंची। लेकिन उसके बाद भी उसका शव ग्रामीणों के विरोध के बाद दोपहर करीब 3 बजे तक ट्रांसफार्मर से उतारा जा सका।

ग्रामीणों ने जताया विरोध

हादसे के तीन घंटे बाद भी शव को ट्रांसफॉर्मर से नहीं उतारे जाने को लेकर ग्रामीणों ने विरोध जताया। बिना सुरक्षित उपकरणों के संविदा कार्मिकों से काम करवाने को लेकर संबंध्ति स्क्यिूरिटी फर्म संचालक के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की गई तथा मृतक के परिजनों को मुआवजा दिलाने की मांग की। मौके एसडीएम भूपेन्द्र यादव, तहसीलदार देशलराम परिहार एएसपी दशरसिंह, उप अधीक्षक वीरेन्द्रसिंह, पहुंचे तथा ग्रामीणों को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया।

महेन्द्र कंधों पर थी पूरे घर की जिम्मेदारी

महेन्द्र पिछले तीन वर्षों से डिस्कॉम में काम कर रहा था। परिवार में कमाने वाला वह अकेला था। पिता वृद्ध हैं और मां व भाई दिव्यांग हैं। पत्नी भी अपंग हैं। परिवार के कमाने वाले सदस्य की मौत होने से परिवार को आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...