पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बेटे के सामने अपनी पत्नी की हत्या:सुबह खाना बनाने के दौरान दोनों में हुई कहासुनी, बेटा बोला- चीख सुनकर उठा तो देखा पापा चाकू से मम्मी का गला काट रहे थे

पाली2 महीने पहले
वारदात के बाद मौके पर बिखरा पड़ा खून एवं रोटी बनाने के लिए रखा आटा।

कोतवाली थाने के बजरंग बाड़ी क्षेत्र में बुधवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे खाना बना रही पत्नी की शराबी पति ने कहासुनी के बाद चाकू से गर्दन काट दी। मां की चीख सुन बेटे की नींद खुली तो आरोपी पिता मौके से भाग गया। जिसे पुलिस ने पीछा कर पकड़ा। इधर अस्पताल में उपचार के दौरान महिला की मौत हो गई।

मृतका ऊषा ओड
मृतका ऊषा ओड

एसपी कालूराम रावत ने बताया कि बजरंगबाड़ी निवासी 45 वर्षीय ताराचांद ओड पुत्र तेजाराम ओड ने बुधवार सुबह खाना बना रही पत्नी से किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। आवेश में आकर उसने अपनी 38 वर्षीय पत्नी ऊषा ओड की चाकू से गला काट हत्या कर दी और फरार हो गया। जिसे नाकाबंदी कर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। वारदात के पीछे घरेलू विवाद बताया जा रहा हैं।

मासूम सूरज व आकाश जिनकी आंखों के सामने मां की तड़प तड़प कर मौत हो गई।
मासूम सूरज व आकाश जिनकी आंखों के सामने मां की तड़प तड़प कर मौत हो गई।

बेटा बोला, मां की चीख सुनकर उठा, पापा मां की गर्दन काट रहे थे उसे देख भाग गए

मैं कमरे में सो रहा था। सुबह करीब पौने छह बजे मां की चीख सुनकर उठा। देखा तो पापा चाकू से मां की गर्दन काट रहे थे। मैं उनकी तरफ दौड़ा तो भाग गए। मां को तुरंत अस्पताल ले गया, लेकिन उनकी मौत हो गई। रोते हुए सूरज बोला कि पापा कमाते नहीं थे। रोज शराब पीकर मां से झगड़ा करते थे उन पर शक करते थे। मां मस्तान बाबा के निकट रहने वाली दादी के घर गई हुई थी। जो सुबह ही घर आई थी। मम्मी खाना बना रही थी। इस दौरान पापा से किसी बात पर उनकी कहासुनी हुई तो मम्मी की गर्दन काट दी।

घर के आंगन में बिखरा पड़ा खून।
घर के आंगन में बिखरा पड़ा खून।

​​​​​​​आए दिन होती थी पति-पत्नी में तकरार

ताराचंद और उसकी पतनी ऊषा दोनों कमठे की मजदूरी का काम करते थे। ताराचंद आदतन शराबी था। रोज शराब पीता था तथा काम-काज कम करता था। शराब पीने के लिए पत्नी से लड़ झगड़ कर रुपए ले लेता था। इससे दोनों पति-पत्नी में आए दिन तकरार होती थी। पिता के नहीं कमाने के चलते पढ़ाई की उम्र में सूरज को भी घर चलाने के लिए मजदूरी पर जाने लग गया था।

शराबी पिता की सनक से तीन बच्चों के सिर से उठा मां का साया
मृतक ऊषा देवी के सूरज (17), आकाश (15) व वर्षा (12) तीन संताने हैं। घटना के समय दोनों पुत्र घर में सो रहे थे। मासूम वर्षा अहमदाबाद अपने रिश्तेदार के यहां गई हुई थी। जिसे काफी देर बाद मां की मौत की खबर परिवार के लोगों ने दी तो रो-रो कर उसका बुरा हाल हो गया। मां की हत्या करने के मामले में पिता जेल चले जाएंगें। ऐसे में दोनों भाई बहनों की परवरिश की जिम्मेदारी 17 साल के सूरज के कंधों पर आ जाएगी।

सास के यहां गई थी ऊषा अलसुबह घर आई तो दोनों में हुई तकरार
जानकारी के अनुसार ऊषा की सास व देवर-देवरानी मस्तान बाबा के निकट कॉलोनी में रहते हैं। देवरानी की तबीयत खराब होने के चलते सास के बुलावे पर मंगलवार शाम को खाना बनाने के लिए सास के घर गई थी। जहां से बुधवार सुबह अपने घर आकर खाना बनाने लगी। इस दौरान ताराचंद व उसमें किसी बात को लेकर बहस हो गई। आवेश में आकर ताराचंद ने चाकू से ऊषा की गर्दन काट दी।

गुजरात में भी कर चुका हैं हत्या
पुलिस के अनुसार आरोपी पिछले करीब 15-20 सालों से पाली में रह रहा हैं। इससे पहले गुजरात रहता था। जहां भी उसने किसी की हत्या की थी। जिस पर उसे जेल भी जाना पड़ा था। बाद में पाली आकर बसा।

खबरें और भी हैं...