पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ऐसे कैसे हारेगा काेराेना:पाली-जाेधपुर के बीच बसों में दौड़ रहा काेराेना

पाली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • न सोशल डिस्टेंसिंग की पालना हो रही, न ही मास्क पहन रहे यात्री
  • सीटाें पर जगह नहीं मिलने पर यात्री बसों में खड़े हाेकर कर रहे सफर, काेराेना गाइडलाइन की नहीं हो रही पालना

इन दिनाें जोधपुर और पाली में काेराेना तेजी के साथ फैलता जा रहा है। दाेनाें ही शहरों में जुलाई माह में रिकॉर्ड मरीज मिले। वहीं अब तक जोधपुर में कुल 6851 मरीज सामने आए ताे पाली में 2705 नए संक्रमित मिले। इसकी एक वजह बसों में दाेनाें शहरों में आवागमन कर रहे यात्री भी हाे सकते हैं।

दाेनाें ही शहरों के बीच बसों में यात्रियाें के साथ काेराेना भी दौड़ रहा है। इन बसों में काेराेना गाइडलाइन काे पूरी तरह से ताक में रखा गया है। सोशल डिस्टेंसिंग ताे बसों में वैसे भी नहीं है, लेकिन अधिकांश यात्री मास्क भी नहीं लगा रहे। ऐसा नहीं है कि ये हालात केवल निजी बसों के हैं, रोडवेज की बसों में भी बिल्कुल ऐसे ही हालात हैं।

अनलॉक खुलने के बाद धीरे-धीरे बसों के संचालन काे मंजूरी मिली। हाल ही में बीते दिनाें सरकार ने निजी बसों के संचालन काे लेकर एक आदेश भी निकाला, इसमें उनकाे स्पष्ट ताैर पर निर्देश दिए थे कि सोशल डिस्टेंसिंग की पालना, मास्क पहनने की सख्ती और हर यात्री काे बस में बैठाने से पहले उनकाे सेनिटाइज करने की बाद ही बैठाना था, लेकिन जोधपुर से पाली आने वाली अधिकांश बसों में इन नियमों की पालना नहीं हाे रही है।

शनिवार काे भास्कर टीम ने पाली से जोधपुर जाने वाली और वापस जोधपुर से आने वाली बसों सफर कर जानी स्थिति। इनमें हर स्टाॅपेज पर बसों में ठूंस-ठूंसकर सवारियां भरी। अधिकतर लाेगाें ने ताे मास्क भी नहीं लगा रखे थे।

कई सरकारी कर्मचारी करते हैं अपडाउन, सैंपलिंग की जरूरत
जिस तरह से जोधपुर में काेराेना के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं। यह भी माना जा सकता है कि कहीं पाली से जोधपुर आ-जा रहे यात्री ताे काेराेना संक्रमण नहीं फैला रहे। इनमें लगभग 200 से अधिक सरकारी व गैर सरकारी कर्मचारी भी हैं, जाे रोजाना दाेनाें शहरों के बीच अपडाउन करते हैं।

राेडवेज में भी नियम कायदे ताेड़े, स्क्रीनिंग भी मनमर्जी की

काेराेना संक्रमण का खतरा केवल निजी बसों से ही नहीं है, बल्कि रोडवेज भी इसमें लापरवाही बरत रहा है। जोधपुर से आने वाली और वापस जाने वाली बसों में न ताे सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जा रहा है और न ही मास्क का। इतना ही नहीं रोडवेज बस स्टैंड पर स्क्रीनिंग भी मनमर्जी से की जा रही थी।

संक्रमण फैलाने वाली बसों पर कार्रवाई की जिम्मेदारी किसकी?
काेराेना के चलते बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग काे लेकर प्रशासन सख्त है, लेकिन निजी व रोडवेज बसों में बिना मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं हाेने से सबसे ज्यादा संक्रमण फैलने का खतरा है, लेकिन अभी तक ऐसी बसों के खिलाफ कार्रवाई का एक भी मामला सामने नहीं आया है।

रोडवेज बस स्टैंड...

पाली. शनिवार काे भास्कर टीम रोडवेज बस स्टैंड पहुंची ताे वहां बैठे कर्मचारियों ने भी मास्क नहीं लगा रखा था। बाहर सेनिटाइजर मशीन लगी थी, लेकिन उसमें सेनिटाइजर ही नहीं था।

व्यवस्था में सुधार करवाएंगे

  • हां, इसमें काेई संदेह नहीं है। लेकिन अर्थव्यवस्था काे देखते हुए हम इन्हें राेक नहीं सकते। लेकिन इसकाे लेकर हमने एक दाे बार जहां बसें रुकती है, वहां सैंपलिंग करवाई थी। अब आरएसआरडीसी और निजी बसों में ऐसे हालात हाेंगे ताे उन्हें पकड़ेंगे और व्यवस्थाओं में सुधार करवाएंगे। - अंशदीप, कलेक्टर, पाली
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें