सेवा / 100 से अधिक अधिकारियों ने 25 हजार लाेगाें में बांटे राशन किट

More than 100 officers distributed 25 thousand ration kits
X
More than 100 officers distributed 25 thousand ration kits

  • एकता नवनिर्माण ट्रस्ट के माध्यम से लॉकडाउन में राशन किट में बिस्किट, केले, मास्क सेनेटाइजर, गमछे व चप्पलों के साथ पानी की बाेतल कर रहे वितरित

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

पाली. काेराेना लाॅकडाउन में प्रभावित हाेने वाले परिवाराें की हालत काे देखते हुए प्रदेश के आरएएस, आरपीएस समेत अन्य प्रशासनिक अधिकारियाें ने भी अपनी तरफ से मदद की गजब पहल की है। इन अधिकारियाें ने एकता नवनिर्माण ट्रस्ट का गठन कर 22 मार्च से ही जरूरतमंदों काे उनके घर तक राशन सामग्री का वितरण किया जा चुका है। अब तक 25 हजार लाेगाें तक यह सहायता पहुंचाई जा चुकी है।

ट्रस्ट के प्रमुख आरएएस तथा पाली में एडीएम रह चुके ब्रजेश कुमार चंदेलिया का कहना है कि ट्रस्ट के माध्यम से राशन सामग्री के किट देने के साथ ही मास्क, सेनेटाइजर देने के साथ ही बाहर से आने वाले लाेगाें काे उनके घर तक पहुंचाने केे लिए बसाें व अन्य साधनाें की व्यवस्था भी की जा रही है। 
प्रदेश भर के अधिकारियाें की बनी यह संस्था पूर्व में शिक्षा के प्रति जागरूकता लाने, गरीब बच्चाें की शिक्षा का खर्च उठाने में काम करती थी, मगर काेराेना लाॅकडाउन में जरूरतमंदों की हालत काे देखा ताे अधिकारियाें ने इनकाे संबल देने का बीड़ा उठा लिया। 22 मार्च काे पहले दिन से ही जयपुर से ऐसे परिवाराें काे चिंहि्त कर उनकाे तैयार भाेजन पहुंचाने से शुरूआत की। बाद में राशन सामग्री, मास्क, सेनेटाइजर, गमछा भी देना शुरू कर दिया।
आरएएस-आईपीएस सहित कई विभागों के अधिकारी ट्रस्ट में शामिल, 60 दिन से कर रहे सेवा
प्रदेशभर में प्रशासनिक अधिकारियों की यह संस्था काेराेना से प्रभावित लाेगाें की 60 दिनाें से सेवा कर रहे हैं।  चंदोलिया व आईआरएस याेगेश का कहना है कि एकता नवनिर्माण ट्रस्ट एक पंजीकृत संस्था है। राजस्थान के रहने वाले व अन्य प्रदेशों में प्रदेशों में पदस्थापित भारतीय राजस्व सेवा, रेलवे सेवा, बैंकिंग सेवा, पुलिस तथा प्रशासनिक सेवाओं में पदस्थापित अधिकारियों के सहयोग से यह संस्था प्रदेशभर में संचालित हाे रही है।
इस टीम में चेयरमैन अरविंद कुमार, सचिव माेविल जेनवाल, आईईएस रेलवे राजकुमार, आरपीएस हिमांशु, आईआरएस कस्टम हेमंत, सीबीआई कैलाश सहित कई अधिकारी शामिल है। इनके सहयाेग के माध्यम से अब तक 25 हजार लाेगाें तक मदद पहुंचाई जा चुकी है।
श्रमिकाें काे बसाें से घर पहुंंचाने व खाने-पीने की भी व्यवस्था 
60 दिन में राेजाना हजारों की संख्या में लाेगाें की मदद की जा रही है। अनेक स्थानों पर पका हुआ भोजन भी वितरित किया जाता है। प्रवासी राजस्थान के श्रमिकों की समस्या के मद्देनजर श्रमिकों के राजस्थान में प्रवेश पर प्रदेश के मुख्य रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड सहित जिन स्थानाें पर श्रमिकाें का अाना-जाना लगा रहता है वहां पर सहायता किट तैयार कर वितरित किए। किट में बिस्किट, केले, मास्क सेनेटाइजर, गमछे व चप्पलों के साथ पानी की बाेतल दे रहे हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना