बांगड़ में बेड फुल, यहां मरीजों का टोटा:पाली में बनाए 45 बेड के अस्थाई अस्पताल में एक भी बेड पर नहीं ऑक्सीजन की व्यवस्था, इसलिए अधिकतर बेड खाली

पाली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाली में खुले अस्थाई अस्पताल म - Dainik Bhaskar
पाली में खुले अस्थाई अस्पताल म

जिले के सबसे बड़े बांगड़ अस्पताल में बेड मरीजों से फुल हैं। भर्ती होने के लिए मरीजों को इन्तजार करना पड़ रहा है। दूसरी तरफ नया गांव रूपरजत विहार में बनाया गया 45 बेड का अस्थाई कोविड वार्ड मरीजों को तरस रहा है क्योंकि यहां एक भी बेड पर ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं है।

इधर अस्पताल पहुंच रहे अधिकतर मरीजों को सांस लेने में दिक्कत की समस्या है। ऐसे में उन्हें प्राथमिक उपचार के रूप में तुरंत ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है लेकिन यहां बने अस्थाई वार्ड में एक भी बेड पर ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं हैं। ऐसे में मरीजों का यहां नहीं आ रहे।

मरीजों को उपचार मिले इसलिए बनाया अस्थाई वार्ड
जैन समाज के रूप रजत विहार भवन में प्रशासन ने कोविड के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए अस्थाई रूप से 45 बेड का अस्थाई अस्पताल बनाया लेकिन वर्तमान में यह कोई खास काम नहीं आ रहा है। जबकि बांगड़ अस्पताल में बेड फुल हैं। भर्ती होने के लिए मरीजों को इन्तजार करना पड़ रहा है। दूसरी तरफ यहां बेड खाली पड़े हैं।

सभी बेड खाली
26 अप्रैल को खुले अस्थाई कोविड वार्ड में 45 बेड हैं। अभी तक 14 मरीज ही यहां आए हैं। किसी भी बेड पर ऑक्सीजन नहीं है - डॉक्टर कल्याण प्रसाद मीना

खबरें और भी हैं...