पानी की चिंता:जवाई में पीने योग्य एक माह का पानी, दो दिन बाद बदलेगी शहर की पेयजल व्यवस्था

पाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कमांड एरिया में बारिश नहीं हाेने से बांध में पानी की आवक बिल्कुल नहीं

पश्चिमी राजस्थान के सबसे बड़े बांध जवाई के कमांड एरिया में बारिश नहीं हाेने से जिलेवासियों की प्यास बुझाने की चिंता सताना शुरू हाे चुकी है। जवाई बांध में अब पीने योग्य सिर्फ 474 एमसीएफटी पानी बचा है, जाे एक माह तक जिलेवासियों की प्यास बुझा सकता है। जवाई बांध से दिनोदिन पानी कम हाेने के बावजूद भी अभी तक जवाई बांध के पानी की अंतिम रिव्यू बैठक भी नहीं हाे पाई है।

इतना ही नहीं, जलदाय विभाग ने कंटिंजेंसी प्लान भी तैयार नहीं किया है। यही हाल रहा ताे प्लान तैयार हाेने और उसे पूरा करने के लिए भी काफी समय लग जाएगा। वर्तमान में जलदाय विभाग ने ग्रामीण क्षेत्राें में 72 घंटे में एक बार पेयजल आपूर्ति की जा रही है। अागामी दाे से तीन बाद शहर की पेयजल व्यवस्था भी 72 घंटे में की जाएगी। इस कार्य में भी विभाग देरी करता है ताे आगामी सितंबर माह के अंतिम सप्ताह तक जिलेवासियों की प्यास बुझाने में भारी दिक्कत हाे सकती है।

सभी बांध सूखे, रिव्यू बैठक में देरी से कंटिंजेंसी प्लान पर भी चर्चा नहीं

रिव्यू बैठक 31 काे हाेनी थी, लेकिन नहीं हाे पाई

बांध के पानी के रिव्यू काे लेकर गत 31 जुलाई काे रिव्यू बैठक हाेनी थी। इसमें शहर समेत ग्रामीण क्षेत्राें के पेयजल शिड्यूल, बांध में पानी नहीं आए ताे आगे का प्लान समेत विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होनी थी, लेकिन बैठक नहीं हाे पाई है। हालांकि जलदाय विभाग चीफ इंजीनियर नीरज माथुर ने अधिकारियों की बैठक लेकर दिशा-निर्देश दिए थे। इसके बाद उनके निर्देश पर ही ग्रामीण क्षेत्राें में 72 घंटे में एक बार पानी सप्लाई की जा रही है। अब कलेक्टर छुट्टी पर चलने के चलते रिव्यू बैठक नहीं हाे पा रही है।

उम्मीद अब सिर्फ बारिश से, अगर नहीं हाेती है वाटर ट्रेन ही सहारा

मानसून से अब तक सिर्फ निराशा ही मिली है। जिले में लगभग सभी बांध सूखे पड़े हैं, जबकि बीते साल इस समय तक जिले में करीब 5 बांध ओवरफ्लाे हाे चुके थे। जिले की औसत बारिश भी 50 फीसदी से भी कम है। ऐसे में जिले में पेयजल समस्या के समाधान के लिए अब सिर्फ बारिश से ही उम्मीद बची है।

वैसे जिले में अक्सर अगस्त व सितंबर माह में ही अच्छी बारिश हाेती है। अगर इन दाे माह में अच्छी बारिश नहीं और जवाई में एक साल का पानी स्टोरेज नहीं हाे पाया ताे हालात काफी खराब हाे सकते है। वर्तमान में सिर्फ एक माह में बारिश नहीं हाेती है ताे प्यास बुझाने के लिए जाेधपुर से वाटर का सहारा लेना हाेगा।

शहर की पेयजल सप्लाई भी बदलेंगे

जवाई क्षेत्र में बारिश नहीं हाेने के चलते चिंता बढ़ रही है। कम पानी बचा है। आगामी दाे से तीन दिन में कलेक्टर के साथ बैठक हाेगी, जिसमें शहर की पेयजल सप्लाई बदलने के साथ कंटिंजेंसी प्लान पर चर्चा करेंगे। हालांकि अक्टूबर व सितंबर में अच्छी बारिश की उम्मीद है।- जगदीशप्रसाद शर्मा, एसई जलदाय विभाग पाली

खबरें और भी हैं...