हत्या का मामला:पुलिस ने माना-उषा ने आत्महत्या की, काेर्ट ने कहा-उसकी हत्या हुई, फिर से जांच कराे

पाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सुमेरपुर के भाचुंदा गांव में उषा कंवर माैत प्रकरण में काेर्ट ने लिया प्रसंज्ञान

अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुमेरपुर ने भाचुंदा गांव में गत 15 मार्च, 2021 काे उषा कंवर की माैत प्रकरण में सुनवाई करते हुए इसे हत्या का मामला मानते हुए प्रसंज्ञान लिया है। काेर्ट ने कहा कि मामले की जांच करने वाले दाेनाें सुमेरपुर थाना प्रभारी रवींद्रसिंह खिंची व महिला अत्याचार निवारण सेल के डीएसपी ओमप्रकाश साेलंकी ने दूषित अनुसंधान कर कई फैक्ट काे नजर अंदाज किया।

काेर्ट ने पुलिस की ओर से उषा कंवर माैत प्रकरण काे आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करना मानते हुए आईपीसी 306 में आराेप पत्र पेश किया, जबकि यह मामला हत्या का प्रतीत हाे रहा है। काेर्ट ने एसपी कालूराम रावत काे आदेश दिए हैं कि वे इस मामले काे हत्या के अभियाेग 302 में दर्ज कर फिर से जांच कराए। मामले में अगली सुनवाई 13 अगस्त काे मुकर्रर की है।

अभियाेजन के अनुसार 15 मार्च, 2021 को जालोर जिले के गांव दयालपुरा निवासी विशनसिंह राजपूत ने सुमेरपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उसकी बहन उषा कंवर की शादी भाचूंदा गांव में हड़मतसिंह से हुई, जिसकी सात साल की पुत्री पायल है। अाराेप था कि उसका बहनाेई मजदूरी के सिलसिले में बाहर रहता है, जबकि भाचुंदा गांव में उषा कंवर बेटी पायल के साथ रहती थी।

उषा की संपति हड़पने की मंशा से जेठानी श्रवण कंवर ने कुएं में धकेल कर हत्या की। पुलिस ने हत्या के आराेप में मुकदमा दर्ज किया और सुमेरपुर थानाप्रभारी रवींद्र सिंह खींची ने अनुसंधान कर आईपीसी 306 का मामला मानते हुए आराेपी जेठानी श्रवण कंवर काे गिरफ्तार किया। इसके बाद मृतका के भाई विशन सिंह ने एसपी काे परिवाद दिया, जिसके बाद मामले की जांच महिला अत्याचार सेल के डीएसपी ओमप्रकाश साेलंकी काे साैंपी।

उन्हाेंने भी इस मामले काे आईपीसी 306 का मानते हुए न्यायालय में चालान पेश कर दिया। इस पर मृतका के भाई ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र पेश कर अनुरोध किया कि पुलिस ने अपराधियों को बचाने के लिए दूषित अनुसंधान किया है।

खबरें और भी हैं...