• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Pali
  • Policemen Arrived As Maternal Uncles At The Wedding Of The Sisters Of The Police Station, Filled A Quarter Of A Million

पुलिसकर्मियों ने भरा मायरा:थाने के कूक की बहनों की शादी में मामा बनकर पहुंचे पुलिसकर्मी, भरा सवा लाख का मायरा

पाली7 महीने पहले
पाली जिले के सुमेरपुर थाने के कानपुरा गांव निवासी थाने के कूक ईश्वरी भारती की बहनों का चूनरी ओढ़ते सुमेरपुर डिप्टी रजत विश्नोई व सुमेरपुर थाने का स्टॉफ।

पाली जिले के सुमेरपुर थाना पुलिस ने सामाजिक सरोकार अनूठा उदाहरण पेश किया। थाने में सबको दो वक्ता का भोजन बनाकर खिलाने वाले लांगरी (कूक) की तीन बहनों की शादी में डिप्टी सहित अन्य पुलिस अधिकारी मामा बनकर पहुंचे। वे तीनों दुल्हनों सहित पूरे परिवार के लिए कपड़े ले गए तथा 01 लाख 11 हजार 151 रुपए नकद मायरे में भरे। जिसे देख मौजूद लोगों ने खूब सराहना की।

सुमेरपर थाने के लांगरी (कूक) ईश्वर भारती को शॉल ओढ़ाते सुमेरपुर डिप्टी रजत विश्नोई व अन्य पुलिसकर्मी।
सुमेरपर थाने के लांगरी (कूक) ईश्वर भारती को शॉल ओढ़ाते सुमेरपुर डिप्टी रजत विश्नोई व अन्य पुलिसकर्मी।

जिले के सुमेरपुर थाने के कानपुरा गांव निवासी ईश्वर भारती पिछले कई वर्षोँ से सुमेरपुर थाने में लांगरी (कूक) का काम करता था। आर्थिक रूप से उसका परिवार ज्यादा सक्षम नहीं था। एक नवम्बर को ईश्वर भारती की तीन बहनें रिंकू, नीतू व मीना की शादी थी। सुमेरपुर सीओ रजत विश्नोई, सुमेरपुर थानाप्रभारी रामेश्वर भाटी व थाने के स्टॉफ ने चर्चा की ओर सब ने एक राय होकर लांगरी की तीन बहनों की शादी में मायरा भरने का निर्णय लिया। फिर किया था, सुमेरपुर डिप्टी से लेकर थाने के कांस्टेबल तक ने सहयोग राशि दी। थाने के स्टॉफ ने बाजार से लांगरी के पूरे परिवार के लिए नए कपड़े खरीदे।

शादी में पहुंचे तीनों बहनों को ओढ़ाई चुनरी
सुमेरपुर डिप्टी रजत विश्नोई सहित सुमेरपुर थाने के कई पुलिसकर्मी लांगरी ईश्वर भारती की बहनों की शादी में पहुंचा तथा तीनों बहनों को चुनरी ओढ़ाई। तथा पूरे परिवार को नए पकड़े भेंट में दिए। मायरे की थाली में पुलिसकर्मियों ने 01 लाख 11 हजार 151 रुपए रुपए की राशि रखी। इस दौरान महिलाओं ने मामा बनकर आए पुलिसकर्मियों के स्वागत में मंगल गीत गाए। थाने के पुलिसकर्मियों द्वारा इतना कुछ करने लांगरी ईश्वरी भाटी पुत्र नाथू भारती की आंखों से आंसू छलक गए। बोला, डिप्टी साहब इतना कुछ करने की कहा जरुरत थी। तो वे बोले तुम भी तो हमारे परिवार का हिस्सा हो। दो वक्त का भोजन तो तुम्हारे हाथ का ही खाते हैं। इतना तो तुम्हारी बहनों के लिए हम कर ही सकते हैं। उनका यह जवाब सून सबके चेहरों पर मुस्कान आ गई। शादी में सुमेरपुर थाने से उप निरीक्षक अमराराम मीणा, नरसिंगराम व ट्रेफिक इंचार्ज चुन्नीलाल के साथ थाना व सीओ कार्यालय स्टाफ मौजूद रहा।