तीसरी लहर:शुरुआत में ही रिकॉर्ड 44 मरीज, पहली लहर में 10 दिन में सिंगल डिजिट में थे नए केस

पाली14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना की तीसरी लहर फैलने की रफ्तार जिले में पिछली दोनों लहरों के मुकाबले तेज हो सकती है। जिले में शुक्रवार को 24 घंटे में 44 मरीज सामने अाए हैं। इसमें 1 से 18 साल तक के 12 मरीज, 19 से 40 साल तक के 17 मरीज, 41 से 60 साल तक के 10 अाैर 61 से अधिक उम्र के 5 काेराेना संक्रमित मरीज मिले हैं। जबकि 2020 की पहली लहर में पहला मरीज 21 मार्च को मिलने के बाद 30 मार्च तक संख्या नहीं बढ़ी थी। मार्च की शुरुआत 10 एक्टिव केस से हुई थी। पूरे मार्च में नए संक्रमित सिंगल डिजिट में आ रहे थे।

शुक्रवार को मिले मरीजों में इनमें से कई मरीज जिले के बाहर जाकर अाए हैं। इसके बाद उन्हें खांसी अाैर बुखार हाेने लगा। जिन्हाेंने 5 जनवरी काे जिले के सीएचसी, पीएचसी अाैर बांगड़ अस्पताल में अारटीपीसीअार की जांच करवाई, जिनमें से गुरूवार काे 44 लाेगाें की रिपाेर्ट पाॅजिटिव अाई है। चिकित्सा विभाग द्वारा संक्रमित के संपर्क में अाने वाले लाेगाें की ट्रेसिंग शुरू कर दी गई है। साथ ही जिन संक्रमिताें में काेराेना के काेई लक्षण नहीं हैं उन्हें 7 दिन तक घर पर ही अाइसाेलेट हाेने के निर्देश जारी किए गए हैं।

पाली मेडिकल काॅलेज के काेविड नाेडल अाॅफिसर व सहायक अाचार्य डाॅ. प्रवीण गर्ग ने बताया कि पाली शहर में दिसंबर महीने में पहले 50 से 60 लाेगाें की ही सैंपलिंग हाेती थी। जनवरी महीने से ही सबकाे सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए गए थे। अब पाली शहर में संक्रमित के परिजन, काेविड अाेपीडी, स्टाफ सैंपलिंग सहित कई जगहाें से 250 लाेगाें की प्रतिदिन सैंपलिंग की जा रही है। अब प्रतिदिन 1 हजार सैंपलिंग करवाने का टारगेट लिया गया है। इसमें बाहर शादी अाैर पार्टियों में जाकर अाने वाले लाेगाें की भी सैंपलिंग की जाएगी।

साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में भी सैंपलिंग बढ़वाई जाएगी। गुरूवार काे सामने अाए मरीजों में से 5 मरीज पाली, 6 मारवाड़ जंक्शन, 1 अाउवा, 4 सादड़ी, 2 देसूरी, 11 सुमेरपुर, 5 बाली, 6 साेजत अाैर 4 मरीज फालना से सामने अाए हैं। इन्हें 7 दिन तक हाेम अाइसाेलेट किया जाएगा। जिन्हें काेई तकलीफ नहीं है उन्हें अाइसाेलेशन से मुक्त कर दिया जाएगा। जिन्हें सांस लेने में तकलीफ अाैर तेज बुखार जैसी समस्या है उन्हें बांगड़ अस्पताल में भर्ती किया जाएगा।

कोरोना का तीसरा वार : जिले में 29 दिसंबर के बाद से काेई मरीज नहीं अाया था, एक साथ इतने कसे मिलने से चिकित्सा विभाग अलर्ट

खतरा अब स्कूलाें तक भी पहुंच रहा, इसलिए सतर्कता जरूरी विशेषज्ञाें का मानना है कि शुक्रवार की काेराेना संक्रमण की रिपाेर्ट में 12 बच्चे भी पाॅजिटिव अाए हैं। इस रेश्याे के अनुसार 27 प्रतिशत बच्चे संक्रमण की मार झेल रहे हैं। एेसे में स्कूलाें में भी अब काेराेना के पहुंचने की अाशंका गहराने लगी है। इसके चलते अब सतर्कता बरतनी जरूरी है।

खबरें और भी हैं...