पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आदर्श घाेटाले के कर्मों का हर्जाना:2 करोड़ तक वेतन, भारी कमीशन से विदेशों में मौज करते रहे निवेशकों से लूट का हिसाब होते-होते हुलिये ही बिगड़ गए

पाली8 दिन पहलेलेखक: कन्नू भीलवारा
  • कॉपी लिंक
14,800 कराेड़ हड़पने पर साेसायटी के सुप्रीमाे, परिवार, सहयोगियों की गत बिगड़ी। - Dainik Bhaskar
14,800 कराेड़ हड़पने पर साेसायटी के सुप्रीमाे, परिवार, सहयोगियों की गत बिगड़ी।

देश में सहकारिता क्षेत्र में सबसे बड़े 14800 कराेड़ रुपए का घाेटाला करने वाले आदर्श काे-ऑपरेटिव साेसायटी लिमिटेड के सुप्रीमाे मुकेश माेदी-वीरेंद्र माेदी परिवार तथा उनके निदेशक मंडल के सदस्य दो साल से अपनी ही करनी की सजा काट रहे हैं। निवेशकों की गाढ़ी कमाई हड़पने के दौरान अमीरों जैसी लाइफ स्टाइल जीने वाले सभी आरोपियों का अब हुलिया ही बिगड़ गया है।

पुलिस थानाें में बन रही दाल-चपाती से पेट भरना पड़ रहा है तो 6 गुणा 4 की हवालात में कुख्यात अपराधियाें के साथ दिन और रात कट रहे हैं। महीनाें तक शेविंग नहीं हाेने के साथ ही स्नान के लिए भी अब उनकाे एक बाॅल्टी पानी के लिए सप्ताह भर का इंतजार करना पड़ रहा है। पास में दाे जाेड़ी कपड़े ही हैं, इनकाे धाेने की जिम्मेदारी भी यहीं उठा रहे हैं।

दाे साल से इनकी जिंदगी काे ऐसा ग्रहण लगा है कि घाेटाला उजागर हाेने के बाद से माेदी परिवार के सदस्य समेत निदेशक मंडल देश-प्रदेश में दर्ज जालसाजी के मामले में एक थाने से दूसरे थाने की गिरफ्तारियां और अलग-अलग क्षेत्राें की जेलाें में ही सांस काट रहे हैं।

काेतवाली पुलिस ने अपने यहां पर कुल 66 लाेगाें के साथ हुई डेढ़ कराेड़ से अधिक की जालसाजी के मामले में आठ आराेपियों को रविवार को प्रोडक्शन वारंट पर पाली ले आई थी। इन आरोपियों में साेसायटी की सीईओ ललिता राजपुराेहित, समीर माेदी, राेहित माेदी, भरत माेदी, राजेश्वरसिंह जाट, वैभव लाेढ़ा, साेसायटी का पूर्व उपाध्यक्ष ईश्वरसिंह सिंदल व प्रियंका माेदी शामिल हैं।

इधर, जाेधपुर केंद्रीय कारागृह से गिरफ्तार कर लाए गए आराेपियाें काे पहले काेतवाली थाना पुलिस ने काेर्ट के आदेश पर एक दिन का रिमांड लिया था फिर जेल भेज दिए। फिर कोतवाली में दर्ज दूसरे मामले में गिरफ्तार कर काेर्ट में पेश किया। इस मामले में भी एक दिन के रिमांड पर रखने के आदेश दिए गए।

वैभव लोढ़ा: बतौर एडवाइजर 720 करोड़ रुपए का कमीशन लिया, पत्नी प्रियंका ने 3 साल डायरेक्टर रहते 75 करोड़ वेतन लिया

जोधपुर निवासी मुकेश का दामाद है। सास मीनाक्षी के साथ मिलकर फर्जी फर्म महावीर कंसल्टेंसी बनाई। बतौर एडवाइजर 720 करोड़ कमीशन लिया। पत्नी प्रियंका ने 3 साल तक डायरेक्टर रहते हुए 75 करोड़ वेतन लिया।

ललिता राजपुरोहित: सीईओ रहते करोड़ों वेतन लिया

आदर्श काे-ऑपरेटिव साेसायटी लिमिटेड में सीईओ रहते हुए पूरे कारोबार पर पकड़ बना रखी थी। करोड़ों का वेतन उठाती रहीं।

रोहित मोदी: शैल कंपनी बनाकर 12414 करोड़ का लोन बांटा, 240 करोड़ हड़पे

यह वीरेंद्र का पुत्र और सोसायटी एमडी था। आरोप है कि उसने निवेशकों की राशि में से 12414 करोड़ फर्जी शैल कंपनी बनाकर लोन बांटा। निवेशकों को गिफ्ट देनेे की आड़ में भी 240 करोड़ रुपए उठा लिए थे।

भरत मोदी: इसने भी फर्जी कंपनी बना 12414 करोड़ का लोन बांटा

कार ड्राइवर से पूरे देश में आदर्श का जाल बिछाने वाले पूर्व चेयरमैन वीरेंद्र माेदी का चचेरा भाई है। उसने 87 लोगों के खाते में निवेशकों की राशि में से 12414 करोड़ को फर्जी कंपनी बना लोन राशि आगे से आगे बांट दी थी।

समीर मोदी : भरत मोदी का बेटा, चीफ फाइनेंस ऑफिसर रहते हुए 3 साल के वेतन में नियम विरुद्ध 45.40 करोड़ रु. उठाए। फर्जी कंपनी बना 447 करोड़ का लोन बांटा।

राजेश्वरसिंह जाट : यह आरोपी आदर्श सोसायटी में प्रमुख पद पर था। और मुकेश मोदी का करीबी है। राजेश्वरसिंह काे वेतन भी अच्छा-खासा मिलता था।

ईश्वरसिंह सिंदल: मुकेश माेदी के साथ शुरू से ही जुड़ा है। वह सोसायटी में उपाध्यक्ष भी रहा। उसने भी कराेड़ाें रुपए के घाेटाले में सहभागिता निभाई।

अब कह रहे सब संपत्तियां जब्त हो चुकीं, खाते सीज, हम क्या करें?
पुलिस की तरफ से आराेपियाें से रिमांड अवधि में की गई पूछताछ में कहना है कि उनके पास जाे घाेटाले की रकम बताई जा रही है। उससे भी कहीं ज्यादा संपत्तियां है। इनकाे बेचकर वे काफी हद तक निवेशकाें का पैसा चुका सकते हैं। बैंक खाते भी सीज कर रखे हैं। हमारे पास क्रेडिट भी है। साेसायटी पर सरकार ने प्रशासन भी नियुक्त कर रखा है। ऐसे में अब हमारे हाथ बंधे हुए हैं।

मौज-शौक तो देखो इनके, ऐसा था शाही अतीत

नौकरों की फौज: आगे-पीछे नाैकराें की फाैज उनके हुक्म की तामील में हर वक्त माैजूद रहती थी।

शाही नाश्ता: सुबह चांदी के कप में चाय और देसी-विदेशी काजू-किशमिस समेत कई तरह से व्यंजन सजते थे।

सुरक्षा घेरा: वीवीआईपी जैसे घर से बाहर निकलते ही निजी सुरक्षा घेरे में महफूज दिखाने का रुतबा।

विदेश यात्रा: साल में एक-दाे बार अमेरिका, स्वीट्जरलैंड, काेलंबाे जैसे देशाें में एंजाय हाेता था।

नामी होटलों में रुके: काेलंबाे में खूबसूरत नजारों के बीच नामी होटलों में आनंद के पल गुजारे तो केलिफाॅर्निया के डेथ वैली भी घूमे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें