पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जांच रिपाेर्ट का राेना:जयपुर समेत 4 मेडिकल काॅलेजाें में अटके पाली के सैंपल, बिना काेराेना आइसाेलेशन वार्ड में भर्ती दाे रोगी

पाली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 10 दिन में रिपाेर्ट निगेटिव आने के बाद छुट्टी देने का है नियम
  • 8 दिन पहले सैंपलिंग की अब तक नहीं आई रिपाेर्ट

मेडिकल काॅलेज की माइक्राे बायलाॅजी लैब में स्टाफ की कमी के चलते जांच पर असर पड़ा है। नतीजतन, जयपुर, जाेधपुर, उदयपुर और अजमेर मेडिकल काॅलेज में सैंपल जांच के लिए भेजे हैं। वहां पर पाली के सैंपल काफी दिनाें से पड़े हैं। हैरानी की बात ताे यह है कि कभी सैंपलाें की 1200-1500 रहने वाली पैंडेंसी अब 4000 के आसपास पहुंच गई है।

कई लाेग सैंपलिंग के बाद 9 दिनाें से रिपाेर्ट का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, जबकि दाे मरीज काेराेना संक्रमित नहीं हाेने के बाद भी आइसाेलेशन बी वार्ड में कई दिनाें से भर्ती हैं। आखिरकार नर्सिंग कर्मचारियाें काे उनके रिपीट सैंपल लेकर जांच के लिए भिजवाने पड़े। दाेनाें मरीजाें काे आइसाेलेशन बी वार्ड में भर्ती किया गया है। अमूमन इस वार्ड में ऐसे मरीजाें काे भर्ती किया जाता है, जिनके सैंपल जांच के लिए भेजे हाे और उनकी रिपाेर्ट आनी बाकी हाे।

पाली मेडिकल काॅलेज के माइक्राे बायोलाॅजी लैब में स्टाफ की कमी के कारण सैंपल भेजने पड़े अन्यत्र

3 केस से समझें मरीजाें की परेशानी

1. बैंक में काम करने वाले अतुल पुरोहित ने 6 जुलाई काे सैंपलिंग करवाई थी। इसकी रिपाेर्ट अभी तक नहीं आई है। अतुल की उनके अधिकारी ने बिना रिपाेर्ट के ऑफिस आने के लिए मना कर दिया है। सैंपल देने के बाद से ही हाेम क्वारेंटाइन हूं। 9 दिन हाे गए अभी तक रिपाेर्ट नहीं आई।

2. पाली के बारसा निवासी गुदड़ाराम हार्ट में तकलीफ की शिकायत के बाद 5 जुलाई की रात मारवाड़ जंक्शन से रेफर हाेकर बांगड़ अस्पताल आया। उसे आइसाेलेशन बी वार्ड में भर्ती किया गया। 6 जुलाई काे सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे।

12 जुलाई तक भी इसकी रिपाेर्ट नहीं आई। आखिरकार 13 जुलाई काे एक बार फिर से रिपीट सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे। मरीज काे डिस्चार्ज इसलिए ही नहीं किया जा रहा है, क्याेंकि उसकी रिपाेर्ट अभी तक नहीं आई है।

3. जैतारण निवासी एक व्यक्ति ने अपने भाई के साथ 6 जुलाई काे सैंपलिंग करवाई थी। इसमें 8 जुलाई काे रिपाेर्ट आई। इसमें भाई पाॅजिटिव निकला। सेामवार काे उसे रिपीट सैंपल की रिपाेर्ट निगेटिव आने के बाद छुट्टी दे दी। तब तक भी उनकी रिपाेर्ट नहीं आई। वह पाॅजिटिव है या निगेटिव, पता ही नहीं।

पाॅजिटिव आए सीएमएचओ ऑफिस के डाॅक्टर के दाे बार लिए रिपीट सैंपल, एक भी रिपाेर्ट नहीं आई

काेराेना जांच की रिपाेर्ट में देरी से आमजन ही नहीं डाॅक्टर भी परेशान हैं। 6 जुलाई काे सीएमएचओ कार्यालय के एक डाॅक्टर काेराेना संक्रमित मिले थे। इसके बाद उन्हें आइसाेलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया। 10 जुलाई काे रिपीट सैंपल जांच के लिए जाेधपुर भेजे, इसकी रिपाेर्ट अभी तक नहीं आई है। जल्दी के चलते मंगलवार काे डाॅक्टर ने एक बार फिर से अपना रिपीट सैंपल दिया।

सरकार ने भेजी सीबी नाॅट मशीन, मेडिकल काॅलेज किट ही नहीं खरीद पाया

काेराेना की जांच में तेजी लाने के लिए सरकार ने 20 दिन पहले ही पाली मेडिकल काॅलेज काे 30 लाख रुपए की सीबी नाॅट मशीन भेजी। इसके साथ 4 किट भी आए। इससे कुछ सैंपल की जांच भी हुई, लेकिन सैंपल के ताैर पर आए 4 किट खत्म हाेने के बाद इस मशीन का उपयाेग करना ही बंद हाे गया। यानी, मेडिकल काॅलेज प्रशासन किट की खरीद भी नहीं कर पाया।

जानकाराें की माने ताे इस मशीन में आपातकाल में 10 सैंपल लगाए जा सकते हैं। इन सैंपलाें की रिपाेर्ट 1 से 2 घंटे में मिल जाती है। साथ ही मेडिकल काॅलेज काे काेराेना की जांच के लिए 4 पीसीआर मशीनें मिली थीं। इनमें से 2 मशीनाें से ही काम चल रहा है। दाे मशीनाें के इंस्टालेशन का काम हाे गया है, लेकिन फिलहाल दाे मशीनाें से ही जांच की जा रही है।

सीधी बात

{डाॅ. केसी अग्रवाल, प्राचार्य व नियंत्रक, राजकीय मेडिकल काॅलेज

Q : रिपाेर्ट में देरी का क्या कारण है?
A : स्टाफ की कमी है। एक दाे दिन में स्टाफ की कमी भी पूरी हाे जाएगी।
Q : फिर सैंपलाें की जांच?
A : कुछ यहां पर हाे रही है, इसके अलावा जयपुर, जाेधपुर, अजमेर और उदयपुर भी सैंपल भेजे हैं। कुछ की रिपाेर्ट आ गई है और कुछ की कल तक आ जाएगी। रिपाेर्ट समय पर मिले, इसके लिए प्रयासरत हैं।
Q : सीबी नाॅट मशीन में किट की क्या स्थिति है?
A : सीबी नाॅट मशीन के किट के लिए ऑर्डर दे दिया है, जल्द ही आ जाएंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें