पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गांव के मुखिया की रिश्वतगिरी:कब्जे की जमीन पर घर बनाने की मंजूरी के लिए 80 हजार लेते सरपंच गिरफ्तार

पालीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसीबी की गिरफ्त में दलपत व सोनूसिंह। - Dainik Bhaskar
एसीबी की गिरफ्त में दलपत व सोनूसिंह।
  • प्रतापगढ़ के ओबा गांव में मकान बनाने के लिए 1.35 लाख में तय हुई डील

रायपुर पंचायत समिति के प्रतापगढ़ गांव का सरपंच गुलाब सिंह घूसखाेर निकला। अपने दाे दलालाें केे माध्यम से कब्जे की जमीन पर मकान निर्माण कराने की एवज में डेढ़ लाख रुपए मांग रहा था। एसीबी ने शनिवार काे 80 हजार रुपए की राशि लेते हुए एक दलाल काे दबाेचा। इसके बाद दूसरे मुख्य दलाल काे पकड़ते ही सरपंच भी गिरफ्त भी आ गया। सरपंच की ब्यावर में मेडिकल शाॅप है। आराेपियाें के कब्जे से रिश्वत की राशि बरामद कर ली गई है। यह रिश्वत उसने दलालाें काे अपने यहां पर पहुंचाने के लिए कहा था। दाेनाें दलालों काे एसीबी अधिकारियों ने ब्यावर सदर थाने में ले जाकर आमने-सामने कराया। इस पर उन्होंने सरपंच के लिए रिश्वत के रूप में 80 हजार रुपए लेना कबूल कर लिया।

पाली एसीबी के एएसपी नरपतचंद ने बताया कि आम्बा गांव के दाे भाई कालूराम तथा साेहनलाल पुत्र नाथूराम गुर्जर गांव में ही अपनी कब्जासुदा जमीन पर मकान निर्माण कराना चाहते थे। इसके चलते वे सरपंच गुलाबसिंह के पास पहुंचे। मकान निर्माण में रुकावट नहीं डालने तथा इस भूमि काे आबादी में परिवर्तित करने की एवज में डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत मांगी। एसीबी में इसकी शिकायत पहुंचने पर इसका सत्यापन कराया गया। बाद में सरपंच के साथ उनका साैदा 1.35 लाख रुपए में तय हुआ। इस बीच काेराेना आ गया। इसके चलते परिवादी रिश्वत की रकम नहीं दे पाया था।

सरपंच ने ब्यावर में मेडिकल शॉप पर मंगवाए रुपए, 2 दलाल भी पकड़े

बताया जाता है कि दाे दिन पहले ही परिवादी से सरपंच ने रिश्वत की राशि देने की मांग की थी। शुक्रवार काे इनके बीच पहली किश्त के रूप में 80 हजार रुपए देना तय किया गया। शनिवार काे जब परिवादी ने रुपए देने के लिए दलाल महेंद्र सिंह काे समाचार भेजा ताे उसके पैर में फैक्चर हाेने पर उसने अपने दूसरे साथी व दलाल साेनूसिंह काे बाइक लेकर ब्यावर में ही उसके पास भेजा। साेनू सिंह काे रुपए थमाते ही वहां माैजूद एसीबी के अधिकारियों ने उसे दबाेच लिया। उसके पेंट की जेब से यह राशि बरामद की। बाद में महेंद्र सिंह काे भी गिरफ्तार कर ब्यावर लाया गया। कार्रवाई में पाली एएसपी के साथ ही अजमेर एसीबी के सीआई राकेश वर्मा, किशनसिंह, माेहनलाल, हनुमानसिंह, दिनेश कुमार, यशपालसिंह, जगदीशराम, मनाेहरसिंह भी शामिल रहे।

पहाड़ी क्षेत्र की जमीन पर बड़े पैमाने पर कब्जे, यही सरपंच के लिए पैसे कमाने का जरिया
बताया जाता है कि प्रतापगढ़ ग्राम पंचायत क्षेत्र पूरी तरह से पहाड़ी पर आबाद है। यहां पर बड़ी संख्या में लाेगाें ने अवैध रूप से कब्जा कर रखा है। कच्चे-पक्के मकान भी बने हुए हैं। इस जमीन पर अगर काेई पक्का मकान और अपनी तरफ से कब्जाई गई जमीन काे आबादी में रूपांतरित करवाना चाहता है ताे उसे ग्राम पंचायत में बड़ी रकम देनी ही हाेगी। बरसाें से रहने वाले आम्बा गांव के कालूराम व उसका भाई साेहनलाल गुर्जर गए ताे सरपंच ने माेटी रकम मांग ली। यह जमीन सरपंच के लिए पैसे कमाने का जरिया बनी हुई है।

खबरें और भी हैं...