पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाबालिग का अपहरण करने वाली रेशमा की कहानी:इंस्टाग्राम पर अनजान युवक से हुई दोस्ती तो पति को छोड़ा, फिर ससुराल से भागी; पुलिस ने पकड़ा तो कहा- प्रेमी के साथ ही रहना

तख्तगढ़ (पाली)10 दिन पहले
अपहरण मामले में गिरफ्तार की गई रेश्मा व अरविन्द सिंह।

तखतगढ़ से एक नाबालिग को शादी के लिए अपहरण कर ले जाने के मामले में गिरफ्तार की गई 20 वर्षीय रेशमा बड़ी शातिर दिमाग है। परिजन ने बड़े अरमान से रेशमा का करीब सात माह पहले पाली के एक युवक से निकाह कराया था। इस दौरान इंस्टाग्राम पर अजमेर के अरविन्द सिंह रावत से दोस्ती हो गई। यही दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदल गई। रेशमा पति को छोड़कर अरविन्द के साथ फरार हो गई। रेशमा के ससुराल वालों ने पाली कोतवाली में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई, तो पुलिस उसे ढूंढ कर थाने लाई। उसने प्रेमी अरविन्द के साथ ही आगे का जीवन बिताने की बात कही। अरविन्द के साथ रहते हुए अभी उसे पांच माह भी नहीं हुए कि अरविन्द के कहने पर उसके रिश्तेदार मदन सिंह रावत के लिए भी दुल्हन ढूंढना शुरू कर दिया।

नाबालिग से थी पहचान
रेशमा का पीहर तखतगढ़ में ही है। यहां रहने के दौरान उसकी नाबालिग से पहचान हो गई थी। नाबालिग का परिवार आर्थिक रूप से कमजोर था। रेशमा नाबालिग की शादी मदन सिंह से कराना चाहती थी। इसलिए तखतगढ़ आई और बहला-फुसलाकर नाबालिग को अपने साथ ले गई। समय पर सूचना मिलने पर देवगढ़ पुलिस ने नाकाबंदी के दौरान उन्हें पकड़ा। मामले में तखतगढ़ पुलिस ने आरोपी रेशमा, उसके पति अरविन्द सिंह, मदन सिंह और कार चालक राजेश पंवार को गिरफ्तार किया था।

ये भी पढ़ें..

शादी के लिए नाबालिग लड़की का अपहरण:ससुराल में रिश्तेदार की शादी कराना चाहती थी महिला, पीहर में घर के पास रहने वाली युवती को बहला-फुसलाकर ले गई साथ; पुलिस ने पकड़ा

खबरें और भी हैं...