नए कलेक्टर नमित मेहता का इंटरव्यू:बोले- पाली से प्रदूषण को भगाना और टूरिज्म को बढ़ाना पहला लक्ष्य; कोरोना सैंपलिंग बढ़ाने पर भी जोर रहेगा

पाली।10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाली के नए जिला कलेक्टर नमित मेहता। जो बीकानेर कलेक्टर के पद से ट्रांसफर होकर पाली आ रहे हैं। पाली कलेक्टर अंशदीप का अजमेर जिला कलेक्टर के पद पर ट्रांसफर हुआ हैं। - Dainik Bhaskar
पाली के नए जिला कलेक्टर नमित मेहता। जो बीकानेर कलेक्टर के पद से ट्रांसफर होकर पाली आ रहे हैं। पाली कलेक्टर अंशदीप का अजमेर जिला कलेक्टर के पद पर ट्रांसफर हुआ हैं।

नमित मेहता पाली के नए कलेक्टर होंगे। उन्होंने भास्कर से बात करते हुए कहा कि राजस्थान में पाली जिले की गिनती अच्छे व शांत जिलों में आती हैं। यहां की फैक्ट्रियों से प्रदूषण फैलने की समस्या के बारे में भी बहुत सुन रखा है। पाली में कोरोना से लोगों को बचाना, प्रदूषण की समस्या का समाधान करना और जवाई बांध क्षेत्र को टूरिज्म हब के रूप में विकसित करना पहला लक्ष्य रहेगा।

पाली के नए कलेक्टर नमित मेहता का नाता पाली से काफी पुराना है। वे मूलत: जोधपुर के रहने वाले हैं। उनके दादा माणकलाल मेहता 80 के दशक में प्रमुख कांग्रेस नेता थे। वे कांग्रेस के विधायक भी रहे। वहीं, उनके पिता कमल मेहता भी पाली में ही राजस्थान वित्त निगम में प्रबंधक रह चुके हैं। कलेक्टर मेहता ने बताया कि एक-दो दिन में वे पाली ज्वॉइन करेंगे। रविवार रात को जारी की गई तबादला सूची में मेहता अब पाली के नए कलेक्टर होंगे। वे बीकानेर से ट्रांसफर होकर पाली आ रहे हैं। पाली जिला कलेक्टर अंशदीप का ट्रांसफर अजमेर जिला कलेक्टर के पद पर हुआ हैं।

भास्कर: प्रदूषण की समस्या के समाधान के लिए क्या करेंगे?
जिला कलेक्टर : पाली की प्रदूषण की समस्या सालों पुरानी हैं। NGT के आदेशों की पालना करवाने की कोशिश करेंगे। इसके साथ ही पाली में प्रदूषण को मिटाने के लिए सभी प्लांटों को विकसित करने का प्रयास करेंगे। जिससे की बांडी नदी भी दूषित नहीं हो। उद्योग भी चलता रहे।

भास्कर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी कोरोना काल में आप के काम की तारीफ कर चुके हैं, पाली में बढ़ रहे कोरोना को रोकने के लिए क्या करेंगे?
जिला कलेक्टर : ऐसा कुछ नहीं हैं। हर जिला कलेक्टर अपने बेहतर देते हैं। मैंने भी बीकानेर में रहते हुए कोरोना काल में यही किया। कोरोना को लेकर पाली में स्थिति वर्तमान में ज्यादा गंभीर नहीं हैं। लेकिन स्थिति बिगड़े नहीं इसके लिए निरंतर प्रयास करेंगे। लोगों को कोरोना गाइड लाइन की पालना के लिए जागरूक करेंगे। सैंपलिंग बढ़ाने पर जोर रहेगा। जिससे की कोरोना पॉजिटिव आने वालों को तुरंत इलाज मिल सकें।

भास्कर: पर्यटन को बढ़ाना देने के लिए क्या प्रयास रहेंगे?
जिला कलेक्टर : पाली जिले में पर्यटन को लेकर काफी संभावना हैं। जवाई बांध-राणकपुर क्षेत्र तो विश्व में विख्यात हैं। यहां कई बड़े सेलेब्रिटी भी आ चुके हैं। इसको विकसित करने सहित जिले के अन्य पयर्टक स्थलों के बारे में जानकारी जुटा उन्हें विकसित करने का प्रयास रहेगा। जिससे की जिले में पर्यटकों पगफेरा बढ़े।

भास्कर: सैकड़ों गोशाला होने के बाद भी पाली की सड़कों पर मवेशी विचरण करते हैं, इनसे हादसे भी होते हैं?
जिला कलेक्टर : यह समस्या प्रदेश के कई शहरों में देख चुका हूं। पाल की इस समस्या के समाधान के लिए गौशाला प्रबंधकों की बैठक लेकर उन्हें पाबंद करेंगे। जिससे की सड़कों पर मवेशियों का जमघट नजर नहीं आए ओर हादसों में कमी लाई जा सकें।

भास्कर : पाली में आपके दादा विधायक रह चुके हैं उसी शहर में जिला कलेक्टर बनकर आना कैसा लग रहा हैं?
जिला कलेक्टर : इसे संयोग ही कह सकते हैं। वैसे पाली के पड़ोसी जिले जोधपुर का ही रहने वाला हूं। इसलिए पाली से पुराना नाता हैं।

जानिए पाली के नए जिला कलेक्टर को
पाली के नए जिला कलेक्टर मेहता ने C.A,C.S, PGO-SAPM, I.C.W.A. (Inter), M.COM तक की पढ़ाई कर रखी हैं। वे बीकानेर, जैसलमेर में जिला कलेक्टर रह चुके हैं। इनकी सबसे पहले आईएएस के रूप में उनकी पोस्टिंग बीकानेर में ही हुई। बीकानेर नॉर्थ में एसडीएम रहे। इसके बाद उनको ब्यावर में भी एसडीएम लगाया गया था। वे चितौड़गढ़ में जिला परिषद के सीईओ, अजमेर में एडीए आयुक्त भी रह चुके हैं। इनको प्रदेश में उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए तीन अवार्ड भी मिल चुके हैं। नमित मेहता ने IAS परीक्षा में देश में 13वां स्थान हासिल किया था। मूल रूप से मेहता जोधपुर के हैं। उनकी पढ़ाई जोधपुर में हुई। कॉलेज टाइम में वे जोधपुर विश्व विद्याय में वरिष्ठ उपाध्यक्ष के निर्वाचित हुए। चार्टेड अकाउंटेंट की पढ़ाई करने के बाद उन्होंने दोहा में एक मल्टीनेशनल कम्पी जॉइन कर ली थी। वहां मन नहीं लगा तो वापस आकर पिता के बिजनेस संभाला। बाद में व्यापार छोड़ सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में जुट गए। पहले प्रयास में ही उनका भारतीय राजस्व सेवा में चयन हुआ। दूसरे प्रयास में उन्होंने प्रशासनिक सेवा में 13वीं रैंक हासिल की।

खबरें और भी हैं...