पुलिस अधीक्षक के हाथों कॉलेज निर्देशिका का विमोचन:10 साल बाद कॉलेज निर्देशिका का हुआ प्रकाशन, उसमें भी MP, MLA का संदेश नदारद

पाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांगड़ कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में दीप प्रज्जवलित करते एसपी व कॉलेज प्रिंसिपल। - Dainik Bhaskar
बांगड़ कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में दीप प्रज्जवलित करते एसपी व कॉलेज प्रिंसिपल।

10 साल बाद आखिर कॉलेज प्रशासन ने कॉलेज निर्देशिका का प्रकाशन करवाया। जिसका बुधवार को पुलिस अधीक्षक कालूराम रावत ने विमोचन किया। लेकिन मजे की बात यह थी कि इस बार कॉलेज निर्देशिका में MP, MLA का संदेश नदारद था। वह छात्र नेताओं को भी कार्यक्रम से दूर रखा गया।

बांगड़ कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में मंचासनी पुलिस अधीक्षक व अन्य।
बांगड़ कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में मंचासनी पुलिस अधीक्षक व अन्य।
बांगड़ कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित कॉलेज स्टॉफ व स्टूडेंट।
बांगड़ कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित कॉलेज स्टॉफ व स्टूडेंट।
कॉलेज निर्देशिका जिसका एसपी ने विमोचन किया।
कॉलेज निर्देशिका जिसका एसपी ने विमोचन किया।

शहर के बांगड़ कॉलेज में बुधवार को कॉलेज की वार्षिक पत्रिका व हीरक जयंती विशेषांक 2021-22 का विमोचन कार्यक्रम आयोजित हुआ। कॉलेज प्रिंसिपल डॉ कल्याणसिंह रावत ने बताया कि कार्यक्रम के मुख्य अथिति पुलिस अधीक्षक कालूराम रावत ने कॉलेज की वार्षिक पत्रिका का विमोचन किया। इस दौरान पत्रिका की प्रधान सम्पादक डॉ कमलेश गग्गड़ ने पत्रिका के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में डॉ विनिता अरोड़ा, पत्रिका के संपाक मंडल के सदस्य डॉ मनीष शर्मा, डॉ देवराम, कैप्टन राजेनद्र कुमार पुरोहित, डॉ विनिता कोका, डॉ अनुपम चतुर्वेदी, डॉ मुकेश सांखला, डॉ अपूर्वा माथुर, डॉ श्यामलाल तोसावरा, डॉ विनिता अरोड़ा, डॉ जसंवत सिंह, डॉ दीप्ति चतुर्वेदी, भवंरलाल साहू, राजेश कुमार राठौड़ सहित कई जने मौजूद रहे।

स्टूडेंट से शुल्क वसूलते रहे, प्रकाशन वर्ष 2011 बाद अब

बांगड़ कॉलेज में प्रवेश लेने वाले व अन्य कक्षाओं के लिए फार्म भरने के दौरान कॉलेज प्रबंधन फार्म के साथ कॉलेज की जानकारी के लिए एक निर्देशिका देता है जिसे महाविद्यालय पत्रिका नाम दिया है। इसका शुल्क विद्यार्थी की फीस में शामिल ही होता है। यह शुल्क विद्यार्थियों से वसूले जाने के बाद भी वर्ष 2011 के बाद से कॉलेज निर्देशका का प्रकाशन नहीं किया जा रहा था। इसको लेकर पूर्व में छात्र नेता दीपक सोनी ने जिला कलेक्टर से लेकर मुख्यमंत्री तक शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसमें बताया कि कॉलेज फीस के साथ 30 रुपए कॉलेज निर्देशिका के नाम से स्टूडेंट से कॉलेज प्रशासन वसूलता हैं लेकिन कॉलेज निर्देशिका स्टूडेंट को नहीं दी जा रही। अब करीब 10 साल बाद कॉलेज प्रिंसिपल डॉ कल्याणसिंह रावत के कार्यकाल में कॉलेज निर्देशिका का प्रकाशन किया जा रहा हैं।

MLA-MP का संदेश भी नहीं किया प्रकाशित
कॉलेज निर्देशिका में हर बार MLA -MP का संदेश प्रकाशित होता हैं। लेकिन इस बार न तो विधायक ज्ञानचंद पारख और न ही सांसद पीपी चौधरी का संदेश प्रकाशित किया गया। मेरीट सूची में आने वाले स्टूडेंट व छात्र संघ की गतिविधियों का भी उल्लेख नहीं किया गया। मामले में कॉलेज प्रिंसिपल का कहना हैं कि जल्दबाजी में संदेश शामिल करना भूल गए। कोई विवाद न हो इसलिए छात्र नेताओं को नहीं बुलाया।

खबरें और भी हैं...