कंटिंजेंसी प्लान:जंग से सड़ी पाइप लाइन की टेस्टिंग! पानी छाेड़ते ही कई जगह से छूटने लगे फव्वारे

पालीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जाेधपुर कुड़ी हाैद से राेहट के बीच 2002 में कंटिंजेंसी प्लान के तहत डाली गई 40 साल पुरानी पाइपलाइन की जलदाय विभाग ने मरम्मत शुरू कर दी है। कुड़ी हाैद से पाइपलाइन में पानी छाेड़ने के साथ जहां-जहां से लाइन लीकेज है, उसे चिह्नित कर ठीक करने कार्य किया जा रहा है। हैरानी की बात यह है कि कुड़ी हाैद से राेहट तक पानी पहुंचाने के लिए वर्ष 2016 में भी इसी पाइपलाइन काे ठीक करने की मशक्कत की गई थी, लेकिन करीब डेढ़ माह काम करने के बाद भी सफलता नहीं मिल पाई थी। यह 28 किमी पाइपलाइन जगह-जगह से क्षतिग्रस्त है। मंगलवार काे टेस्टिंग के लिए कुड़ी हाैद से पानी छाेड़ा गया। बताया जाता है कि मात्र 3 किमी भी पानी पूरी तरह नहीं पहुंच पाया, इससे पहले ही जगह-जगह से पाइप से पानी निकलने लगा। ऐसे में इसे पूरी तरह ठीक करना बड़ी चुनाैती होगा।

दैनिक भास्कर की टीम ने दाे माह पूर्व जाेधपुर कुड़ी हाैद से राेहट के बीच डली पाइपलाइन की ग्राउंड रिपाेर्ट में पाइपलाइन की हकीकत बताई थी। इस पाइपलाइन में 50 से अधिक जगहाें पर पाइप कटने के साथ ज्वाइंट भी टूटे पड़े हैं। जंग से पूरी तरह सड़ चुकी है अाैर ठाेकर मारते ही बिखर रही है। अनगिनत छेद भी हैं।

जलदाय विभाग का दावा है कि कुड़ी हाैद से राेहट के बीच पूरी तरह खराब पाइपलाइन काे बदलकर दांतीवाड़ा में पड़े पाइप डाले जाएंगे। बाकी पाइपलाइन काे ठीक किया जाएगा, जबकि हकीकत यह है कि यह पाइपलाइन पूरी तरह खराब है।

दाे माह में तैयार करना जरूरी, तभी राेहट पहुंचा सकेंगे पानी जवाई बांध में बहुत कम पानी बचा है। जनवरी तक ही लाइव वाटर चलेगर। इसके बाद डेड स्टाेरेज से पानी लिया जाएगा। पाइपलाइन की स्थिति काे देखते हुए इसे दाे माह में पूरी तरह ठीक करना चुनाैती है। अगर जनवरी तक यह पाइपलाइन ठीक नहीं हाे पाई ताे राेहट में पानी पहुंचाने के लिए विभाग काे परेशानी उठानी पड़ेगी।

टेस्टिंग के लिए पानी छाेड़ा है ^कुड़ी हाैद से राेहट के बीच पाइपलाइन की टेस्टिंग के लिए पानी छाेड़ा गया, जहां लीकेज है उसे चिह्नित कर सुधारा जा रहा है। अभी कितने किलाेमीटर टेस्टिंग हुई, यह बताना मुश्किल है। पाइपलाइन काे ठीक करने कार्य तेजी से किया जा रहा है। जहां पाइप ज्यादा खराब हैं, उसे बदलेंगे। - मनीष माथुर, एसई जलदाय विभाग पाली

2 माह पहले भास्कर टीम ने 28 किलाेमीटर पैदल चलकर देखी थी पाइपलाइन की हालत, छलनी पाइप ठाेकर मारते ही बिखर रहे थे

खबरें और भी हैं...