अस्थि विसर्जन / कोरोना संक्रमित मृतकों की अस्थियों का अब सम्मानपूर्वक होगा विसर्जन

The bones of the corona-infected dead will now be respectfully immersed
X
The bones of the corona-infected dead will now be respectfully immersed

  • तीसरे मृतक की अस्थियां परिजनों की मौजूदगी में साफ-सुथरी जगह पर विसर्जित कराई

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

पाली. कोरोना महामारी की चपेट में आकर दम तोड़ने वाले मृतकों की अस्थियों को अब सम्मानपूर्वक विसर्जन किया जाएगा। इस प्रक्रिया के दौरान परिजन भी मौजूद रह सकेंगे। बांडी नदी में अस्थियों को विर्सजन पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। शहर में दो मृतकों की अस्थियों को बांडी नदी की गंदगी में ही जेसीबी से खड्डा खोदकर दफना देने के मामले को कलेक्टर अंशदीप ने गंभीरता से लेते हुए यह आदेश जारी किए हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि हरिद्वार ले जाकर अस्थियों को विसर्जित करने की अनुमति तो कोविड-19 की गाइडलाइन तथा राज्य सरकार के आदेश  के तहत नहीं दी जा सकती है।

दैनिक भास्कर ने संवेदनाओं की अंतेष्टि, कोरोना मृतकों की अस्थियां रात में प्रदूषित बांडी नदी में दफनाई  शीर्षक से गुरुवार को समाचार प्रकाशित होने के बाद जिला प्रशासन हरकत में आ गया। कलेक्टर अंशदीप ने इसे गंभीरता से लेते हुए आदेश दिए हैं कि अब कोरोना से किसी की भी मौत होने के बाद दाह संस्कार के बाद बचने वाली अस्थियों का विसर्जन बांडी नदी में नहीं किया जाएगा। उन्होंने स्वीकार किया कि दो मृतकों की अस्थियों को कोई परिजन लेने के लिए नहीं आया था। ऐसे में उनकी अस्थियों को बांडी नदी में दफनाया गया था। छह-सात फीट तक खड्डा खोदने के बाद नदी से पानी आ गया।

यह गलत हुआ। अब किसी भी कोरोना मृतक की अस्थियों को पूरे सम्मान तथा साफ-सुथरे स्थान पर विसर्जित किया जाएगा। इस प्रक्रिया के दौरान मृतकों के परिजन भी मौजूद रह सकेंगे। कलेक्टर अंशदीप ने कहा कि इस बारे में मेडिकल कॉलेज, नगरपरिषद समेत संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया जा चुका है। हरिद्वार में अस्थियों को ले जाकर विसर्जित करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि ऐसे कोई निर्देश नहीं है। ना ही गाइडलाइन में कहा गया है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना