जूते-चप्पल व्यापारी​​​​​​​ से ढाई लाख रुपए की ठगी:युवक ने जमीन में गढ़ा सोना सस्ते में बेचने का दिया झांसा

फालना (पाली)एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सोने की मालाएं। जो जांच में नकली निकली। - Dainik Bhaskar
सोने की मालाएं। जो जांच में नकली निकली।

जूते-चप्पल व्यापारी को जाल में फंसाकर ढाई लाख रुपए के बदले नकली सोना दे दिया। ठगी से पहले आरोपी युवक ने जमीन में सोना गढ़ा होने की बात कही थी। सैंपल के रूप में सोने का छोटा सा टुकड़ा दिया था। व्यापारी ने जांच करवाई जिसमें वह सही निकला। इसके बाद वह लालच में आ गया और रुपए दे दिए।

सस्ता सोना खरीदने के चक्कर में ठगी का शिकार हुए सादड़ी निवासी नारायणलाल पुत्र कानाराम प्रजापत।
सस्ता सोना खरीदने के चक्कर में ठगी का शिकार हुए सादड़ी निवासी नारायणलाल पुत्र कानाराम प्रजापत।

दरअसल, पाली के सादड़ी निवासी नारायणलाल पुत्र कानाराम प्रजापत की देसूरी में जूते-चप्पल की दुकान हैं। वहां कुछ दिन पहले एक युवक जूते खरीदने आया। इस दौरान उसने कहा कि उसके पास खुदाई में निकला सोना हैं। रुपयों की जरूर हैं इसलिए सस्ते में बेच रहा हैं। सैंपल के रूप में युवक ने सोने का छोटा सा टुकड़ा भी नारायणलाल को दिया। उसने जब जांच करवाई तो वही सही निकला। युवक ने एक किलो सोने के 6 लाख रुपए मांगे। बाद में सौदा ढाई लाख रुपए में तय हो गया। तय सौदे के तहत नारायणलाल प्रजापत रुपए लेकर फालना बुलाया। जहां व्यापारी से रुपए लेकर युवक ने उसे एक थैली दी जिसमें करीब एक किलो सोना होने की बात कही। व्यापारी वह लेकर तुरंत निकल गया। लेकिन सादड़ी जाकर व्यापारी ने थैली में रखी मालाओं की जांच करवाई तो वह निकल निकाला। जिस पर उसके होश उड़ गए। तुरंत फालना पहुंचा तथा अपने साथ हुई ठगी की रिपोर्ट थाने में दी। पीड़ित व्यापारी ने बताया कि उसने अपने मोबाइल से ठग का फोटो भी खिंचा था लेकिन मौका देख उसने वह फोटो उसके मोबाइल से डिलीट कर दिया।

सीसीटीवी फुटेज में नजर आया ठगी का संदिग्ध आरोपी। जिसकी पुलिस तलाश में जुटी हैं।
सीसीटीवी फुटेज में नजर आया ठगी का संदिग्ध आरोपी। जिसकी पुलिस तलाश में जुटी हैं।

लालच में आकर ठगी का शिकार होने से बचे
मामले में फालना SHO ओमप्रकाश कासनिया ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी हैं। लेकिन लोगों को लालच में आकर ठगी का शिकार होने से बचना चाहिए। उन्हें सोचना चाहिए कि भला कोई उन्हें बाजार भाव से इतना सस्ता सोना क्यों देगा। ठग की तलाश में CCTV फुटेज खंगाल रहे हैं।

(फोटो : हीरालाल कुमावत, फालना)