पुलिस पर जबरन घर में घुसने का आराेप:मां-बेटी के अश्लील वीडियो प्रकरण में मोबाइल काे री-जनरेट करेंगे

पाली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

साेजत राेड कस्बे में मां-बेटी के अश्लील वीडियो वायरल करने वाले अाराेपी का ताे अब तक पता नहीं लग पाया है, लेकिन इस प्रकरण की जांच में कई नए माेड़ सामने अाए हैं। रिपोर्ट में अाराेप था कि अज्ञात अाराेपी ने धमकियां देकर पीड़ित मां-बेटी के वीडियो बनवाए अाैर अाराेपी ने पीड़िता के मोबाइल से एेसे वीडियो अपने मोबाइल में ट्रांसफर कर लिए। पुलिस का कहना है कि जांच के दाैरान पीड़ित पक्ष से बार-बार मोबाइल देने काे कहा गया, ताकि साइबर तकनीक से वीडियो वायरल करने वाले का पता लगाया जा सके, लेकिन पीड़ित पक्ष ने एेसा नहीं किया। उधर, पीड़ित पक्ष का अाराेप है कि अाधा दर्जन पुलिसकर्मियों ने रात में घर में घुसकर नाबालिग बच्ची से अभद्रता की, जिसकी शिकायत एसपी से करने पर मामले की जांच सदर पुलिस काे साैंपी गई है। इधर, पुलिस का कहना है कि पीड़ित पक्ष ने जाे मोबाइल साैंपा है, उनके डाटा काे री-जनरेट कराया जाएगा। री-जनरेट कराने के बाद डाटा मोबाइल के बैकअप में लेकर जांच की जाएगी कि नाबालिग बच्ची व उसकी मां के अश्लील वीडियो किसी अज्ञात मोबाइल में कैसे सेंड हुए। पेचीदा बना केस, क्याेंकि पीड़ित पक्ष ने पुलिसकर्मियों पर लगाए कई अाराेप : उल्लेखनीय है कि सोशल मीडिया पर गत दिनों एक मां-बेटी का अश्लील वीडियो किसी ने अपलोड कर दिया था। मामले में एक युवक ने सोजत रोड थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि अज्ञात युवक ने उसकी बेटी व पत्नी को अलग-अलग कॉल कर धमकी दी कि अश्लील वीडियो बनाकर भेजो नहीं तो तुम्हारे पति को जान से मार दूंगा, जिससे वे घबरा गए। रिपोर्ट में बताया कि आरोपी ने तकनीकी सहायता से उनके मोबाइल से वीडियो अपने मोबाइल में ले लिए तथा रुपयों की डिमांड करने लगा। नहीं दिए तो उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर बदनाम कर दिया। इस मामले की जांच सोजत सिटी थानाप्रभारी जसवंत सिंह राजपुरोहित को सौंपी गई थी। उनका कहना है कि कई बार पीड़ित पक्ष से मोबाइल मांगा गया, लेकिन उन्होंने नहीं साैंपा। उधर, पीड़ित पक्ष का अाराेप है कि अाराेपी काे गिरफ्तार करने की बजाय साेजत व साेजतराेड एसएचअाे समेत अाधा दर्जन पुलिसकर्मियों ने जबरन घर में घुसकर नाबालिग लड़की के साथ छेड़छाड़ व अभद्रता की, जिसकी शिकायत एसपी से की गई।

खबरें और भी हैं...