पेयजल संकट:रामसीन में 9 दिनों से केवल आधा घंटे हो रही जलापूर्ति, दूषित पानी से प्यास बुझा रहे लोग

रामसीन5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कई वर्षों से रामसीन में पेयजल संकट, सणधरा में स्रोत सूखने से बढ़ी परेशानी

रामसीन कस्बे में पेयजल संकट लगातार गहरा रहा है। कई महीनों से 9 दिनों के अंतराल से जलापूर्ति हो रही है, वो भी केवल आधा घंटे के लिए। इसके चलते लोगों को पानी के लिए दूर दराज जाना पड़ रहा है। इधर, सणधरा में जलस्रोत में पानी सूखने से किल्लत और भी बढ़ गई।

जानकारी के अनुसार जसवंतपुरा समिति की सबसे बड़ी रामसीन पंचायत में करीब 5 हजार आबादी निवास करती हैं। यहां पर सणधरा जल परियोजना से नलों से जलापूर्ति होती है, लेकिन कुछ सालों से अवैध कनेक्शन व सणधरा में अवैध कुओं की खुदाई से जलस्तर घट जाने से रामसीन के कई हिस्सों में पानी नहीं मिल पा रहा है। गांव में 9 दिनों से मात्र आधा घंटे ही जलापूर्ति हो पा रही है। पंचायत ने पेचका कुआं व बीठन से पानी लाने पर भी रामसीन में पर्याप्त नही हैं।

7 किमी दूर नर्मदा का पानी पहुंच रहा

रामसीन नर्मदा का पानी ही क्षेत्र मे जलसंकट दूर कर सकता है। नर्मदा के पानी के लिए भीनमाल मे बडा आंदोलन चल रहा है। लेकिन रामसीन में नर्मदा का नीर 7 किमी दूरी पर ही है। 7 किमी दूर चांदूर तक पानी पहुंच चुका है। लेकिन रामसीन को नहीं मिल पा रहा है।

रामसीन में जल संकट के बारे में सीएलजी बैठक में अवगत करवाया है। अधिकारियों से बात करूंगा। -मेहराम,तहसीलदार, जसवंतपुरा

रामसीन में जलसंकट हैं, पंचायत ने 1 कुआं जलदाय विभाग को हेंडओवर किया है। प्रयास कर रहे हैं। - ओमप्रकाश विश्नोई, ग्राम विकास अधिकारी, रामसीन

खबरें और भी हैं...