पाली जिले में PCC मेंबर को लेकर विरोध:कांग्रेस में बाहरी पर विवाद, कार्यकर्ताओं ने दी इस्तीफे की धमकी

रानी/पाली16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पाली जिले से बाहरी नेताओं को पीसीसी मेंबर बनाने का विरोध  जारी है। जिले के सभी ब्लॉक में इसको लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया। - Dainik Bhaskar
पाली जिले से बाहरी नेताओं को पीसीसी मेंबर बनाने का विरोध जारी है। जिले के सभी ब्लॉक में इसको लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया।

राजस्थान पीसीसी सदस्यों की नियुक्ति को लेकर पाली जिले में विवाद शुरू हो गया है। दूसरे दिन भी पीसीसी की गुपचुप सूची को लेकर कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। इसके साथ ही कार्यकर्ताओं ने सामूहिक इस्तीफे की धमकी दी।

दरअसल, पीसीसी सदस्यों को लेकर पाली जिले के 12 में से 8 ब्लॉक में बाहरी को तवज्जों देने के खिलाफ में प्रदर्शन किया गया। पीसीसी मेंबर को लेकर पूरे पाली जिले में विरोध चल रहा है। जिले के पाली शहर समेत बाली, देसूरी, मारवाड़ जंक्शन और रानी ब्लॉक के कार्यकर्ताओं की ओर से इसका विरोध जारी है। मेंबर को लेकर जिले के पुराने नेता भी खुलकर विरोध करने लगे हैं। उनका कहना है कि चुनाव में बाहरी से ही वोट दिला देना।

पाली में हुई एक बैठक में भी बाहरी भगाओं-कांग्रेस बचाओं के नारे लगाए गए। इस बैठक में कांग्रेस के पुराने नेता निशाने पर रहे। वहीं पुराने कांग्रेस के नेताओं का कहना था कि बाहरी नेताओं ने कांग्रेस का भट्‌टा बिठा दिया है। इतना ही नहीं पीसीसी मेंबर में चुने गए कई पुराने नेताओं का खुलकर विरोध हो रहा है। कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी कि अपने फैसले को बदलकर सही निर्णय नहीं लिया तो पीसीसी मुख्यालय जाकर सामूहिक इस्तीफा देंगे।

जिले के बाली औैर रानी ब्लॉक के कार्यकर्ताओं में भी इसको लेकर गुस्सा है। स्थानीय कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि जिन लोगों को पीसीसी सदस्य बनाया गया है उनका स्थानीय कार्यकर्ताओं से कोई संपर्क नहीं है।

देसूरी ब्लॉक में भी कांग्रेस के नेताओं पर उनका हक मारने का आरोप लगाते हुए पार्टी के कार्यक्रम से दूरी बनाने की घोषणा की गई। इसी तरह मारवाड़ जंक्शन ब्लॉक में भी कई कांग्रेसी पदाधिकारी मेंबर को लेकर विरोध कर रहे हैं। कांग्रेस के स्थानीय पदाधिकारियों की ओर से निर्वाचित किए गए सदस्यों की कार्यशैली और उनके व्यवहार पर भी सवाल उठाए गए है। उनका कहना था कि कार्यकर्ताओं को बेईज्जत करने वाले पदाधिकारियों को संगठन में जगह देकर मेंबर बनाया गया है।

बाहरी के विरोध में एक हुए जिले के नेता

पीसीसी मेंबर में बाहरी नेताओं के नाम पर जिले के नेता एक हो गए है। रायपुर पूर्व प्रधान लाल मोहम्मद ने कहा कि स्थानीय कार्यकर्ताओं का टोटा पड़ गया, जो अन्य जिलों से लाकर यहां थोप रहे हैं। देसूरी के वरिष्ठ नेता अमर सिंह का कहना है कि क्या यहां पर कांग्रेस के कार्यकर्ता नहीं। आपसी फूट का मजा बाहरी आकर ले गए। इसी तरह बाली के विनोद रायका व मोहम्मद यकूब संजरी समेत वरिष्ठ नेता डॉ. पोपट पटेल ने भी इसका विरोध करते हुए कहा कि जब कांग्रेस कार्यकर्ता ही नहीं बचेगा तो नेता कौनसे जिंदा रहेंगे। जिले के वरिष्ठ नेताओं का यहां तक कहना था कि जब वोट का टाइम आए तो पीसीसी सदस्य को ही बोलना कि उनको वोट दिला दे।

कार्यकर्ताओं पर थाेपने का प्रयास
इस दौरान कांग्रेस के निवर्तमान नगर अध्यक्ष इलियास चढ़वा, पूर्व नेता प्रतिपक्ष व पार्षद सुनील बैरवा, पूर्व नगर अध्यक्ष जमील मकरानी, पार्षद मुकेश बैरवा, मोहम्मद अकरम, युवक कांग्रेस के विधानसभा क्षेत्र संयोजक सुरेंद्र सिंह सिसोदिया, जिला परिषद चुनाव प्रत्याशी सुरेश चौधरी, ओबीसी प्रकोष्ठ ब्लॉक हरिसिंह चौहान, पूर्व पंचायत समिति सदस्य वह सेवादल जिला सहसचिव ढगलाराम पारंगी, युवक कांग्रेस नगर अध्यक्ष राकेश चौधरी, रमेश चौधरी, मंगलाराम मेघवाल, साबिर मकरानी, जितेन्द्र रावल, लोकेश सैन, उत्तम सिंह पांचलवाडा, राजेश सोलंकी आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...